स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सहकारी समिति में दो जनवरी से खरीदी बंद, धान का उठाव नहीं होने से जाम की स्थिति

Chandra Kishor Deshmukh

Publish: Jan 14, 2020 23:36 PM | Updated: Jan 14, 2020 23:36 PM

Balod

बालोद जिले के धान खरीदी केंद्रों में अधिक धान की आवक के साथ धीमा परिवहन के कारण कई केंद्रों में जाम की स्थिति निर्मित हो गई है। धान का उठाव तेजी से नहीं होने के कारण जिले के विकासखंड के ग्राम कुआंगोंदी केंद्र में दो से 11 जनवरी तक खरीदी बंद रही। जिससे किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

बालोद @ patrika. जिले के धान खरीदी केंद्रों में अधिक धान की आवक के साथ धीमा परिवहन के कारण कई केंद्रों में जाम की स्थिति निर्मित हो गई है। धान का उठाव तेजी से नहीं होने के कारण जिले के विकासखंड के ग्राम कुआंगोंदी केंद्र में दो से 11 जनवरी तक खरीदी बंद रही। जिससे किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ा। @ patrika. किसान रोज केंद्र पहुंचकर खरीदी शुरू होने की जानकारी लेते रहे। किसानों को हो रही परेशानी एवं खरीदी बंद होने की जानकारी सोशल मीडिया में वायरल होने पर खरीदी शुरू कर दी गई। यही स्थिति जिले के खरीदी केंद्रों की है जहां धान का आवक के हिसाब से उठाव धीमा हो रहा है।

22 हजार क्विंटल की खरीदी और उठाव 9 क्विंटल का
मामले में धान खरीदी केंद्र के उप समिति प्रबंधक ओम प्रकाश ठाकुर ने बताया खराब मौसम व बारिश के कारण तथा परिवहन नहीं होने के कारण खरीदी बन्द की गई थी। अब खरीदी शुरू हो गई है। धान खरीदी केंद्र कुआंगोंदी में 589 किसानों से अभी तक 22,773.6 0 क्विंटल धान की खरीदी हुई है। 9,750 क्विंटल धान का ही परिवहन हुआ है। जिसके कारण किसान नाराज थे।

जिले में धान उठाव की स्थिति बेहतर, फिर भी केंद्रों में जाम
विभागीय जानकारी के मुताबिक जिले में धान खरीदी व परिवहन की स्थिति में अन्य जिलों की तुलना बालोद बेहतर है। बेहतर होने के बाद भी खरीदी केंद्रों में जाम की स्थिति निर्मित हो गई है। वाहन की संख्या बढ़ाकर धान उठाव में तेजी लाने का प्रयास किया जा रहा है।

जिले में अब तक 28 लाख क्विंटल धान की खरीदी, उठाव 10 लाख
विभागीय जानकारी के मुताबिक जिले के 69 समितियों के 110 धान खरीदी केंद्रों में अब तक कुल 74,493 किसानों सेे कुल 2,68,84,589 क्विंटल धान की खरीदी हुई है। अब तक मात्र 10,47,580 क्विंटल धान का परिवहन हुआ और अब भी 18,37,008 क्विंटल का परिवहन शेष है।

तीन संग्रहण केंद्र शुरू, अब राहत की उम्मीद
जिले में चार धान संग्रहण केंद्र है जिसमें से अब तीन धान संग्रहण केंद्रों मालीघोरी, जगतरा व फुंडा में धान का संग्रहण शुरू हो गया है। अभी धोबनपुरी धान संग्रहण केंद्र खुलना बांकी है। अभी इन तीनों जगहों में धान का भंडारण शुरू होने से जिले के 110 धान खरीदी केंद्रों के प्रभारियों ने राहत की सांस ली है। अब जल्द ही धान परिवहन में हो रही समस्याओं को दूर हो जाने की बात अधिकारी ने कही है।

[MORE_ADVERTISE1]