स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

वन विभाग के ही कर्मचारी ने पोहा मिल को बढ़ई काम का दिया था लाइसेंस

Chandra Kishor Deshmukh

Publish: Dec 14, 2019 15:49 PM | Updated: Dec 14, 2019 15:49 PM

Balod

ग्राम पाकुरभाट के जिस पोहा मिल की आड़ में लकड़ी चिराई का काम चल रहा था उसे वन विभाग के ही किसी अधिकारी ने बढ़ई काम का लाइसेंस जारी किया था। बढ़ई लाइसेंस की आड़ में वहां लकड़ी चिराई काम किया जा रहा था।

बालोद @ patrika. ग्राम पाकुरभाट के जिस पोहा मिल की आड़ में लकड़ी चिराई का काम चल रहा था उसे वन विभाग के ही किसी अधिकारी ने बढ़ई काम का लाइसेंस जारी किया था। बढ़ई लाइसेंस की आड़ में वहां लकड़ी चिराई काम किया जा रहा था।

विधायक ने की थी लिखित शिकायत
इस मामले में एक माह पहले गुंडरदेही विधायक कुंवर सिंह ने वन विभाग में शिकायत की थी। उसने बताया था कि बालोद से दोपहर 3 साढ़े तीन बजे के बीच लकड़ी का अवैध परिवहन किया जाता है। विधायक की शिकायत पर अवैध परिवहन वाले वाहन पर नजर रख पीछा किया जाने लगा। गाड़ी का पीछा करते मिल तक पहुंचे विभाग के अधिकारी-कर्मचारी।

शाम को चिराई का काम
डीएफओ सतोविशा समाजदार ने बताया कि जब आरा मिल व बढ़ाई दुकान में किसी तरह से अवैध लकड़ी संग्रहण व परिवहन की पुष्टि नहीं हुई। इसी दौरान किसी व्यक्ति के माध्यम से वन विभाग को जानकारी मिली कि गिरनाल पोहा मिल पाकुरभाट में लकड़ी ले जाया जाता है। जिसके बाद आसपास में विभाग की टीम लगा दी। शाम को लकड़ी चिराई की आवाज सुनाई दी। जिसके बाद अधिकारी कर्मचारी पोहा मिल पहुंचे तब देखा कि अंदर लकड़ी का ढेर लगा था चिराई किया जा रहा था।

लाइसेंस देने वाले कर्मचारी को नोटिस जारी
वन विभाग के जिस कर्मचारी ने पोहा मिल में बढ़ई काम के लिए लायसेंस जारी किया था उसे कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है। वहीं पोहा मिल की आड़ में लकड़ी चिराई के कारण बिजली कंपनी को लाइन काटने पत्र लिखा गया है।

[MORE_ADVERTISE1]