स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

वनांचल के गांवों में नेटवर्क की दिक्कत, नहीं मेल खा रहा हितग्राहियों का अंगूठा

Satyanarayan Shukla

Publish: Sep 12, 2019 23:35 PM | Updated: Sep 12, 2019 23:35 PM

Balod

गांवों में नेटवर्क नहीं होने से खाद्य विभाग की योजना को लागू करने में शासकीय राशन दुकान संचालक और हितग्राहियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। नए आदेश के अनुसार बिना अंगूठा लगाए किसी को भी राशन नहीं मिलेगा।

बालोद@Patrika. गांवों में नेटवर्क नहीं होने से खाद्य विभाग की योजना को लागू करने में शासकीय राशन दुकान संचालक और हितग्राहियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। नए आदेश के अनुसार बिना अंगूठा लगाए किसी को भी राशन नहीं मिलेगा। इससे सेल्समैन सहित हितग्राही असमंजस में हैं। इस परेशानी को देखते हुए जिला खाद्य विभाग ने चिप्स से मिलकर जंगल क्षेत्रों में सर्वे कराने का निर्णय लिया है। सर्वे में नेटवर्क की समस्या वाले गांवों को चिंहित किया जाएगा।

एक हितग्राही को राशन देने में लगता है 20 मिनट
जानकारी अनुसार ग्रामीण क्षेत्रों में नेटवर्क की बड़ी समस्या है। इसके बिना अंगूठा लगाने वाली थम मशीन में अंगूठे का निशान अपलोड नहीं होता। नेट स्लो होने के कारण एक हितग्राही के पीछे 15 से 20 मिनट लग रहा है। सेल्समैन ने बताया राशन देने की धीमी गति के कारण हितग्राही भी परेशान हो गए हैं। कई बार तो विवाद की स्थिति भी निर्मित हो जाती है। इस परेशानी से निजात पाने सेल्समैन उचित मूल्य की दुकानों में वाई-फाई या फिर ब्रॉडबैंड की सुविधा दिए जाने की मांग कर रहे हैं। जिससे तेजी से काम हो और हितग्राहियों को दूसरे दिन राशन के लिए आना न पड़े।

जंगल क्षेत्रों में ज्यादा दिक्कतें
बता दें कि जिले में कुल 442 शासकीय उचित मूल्य की दुकानें और कुल एक लाख 64 हजार हितग्राही हैं। अंगूठे का निशान जब तक थंब मशीन में नहीं मिलता तबतक हितग्राही को राशन नहीं मिलता है। शहरी क्षेत्रों में तो इंटरनेट नेटवर्क मिल जाता है, पर ग्रामीण क्षेत्रों में काफी दिक्कतें रहती है। जंगल में बसे ग्रामों में यह परेशानी है, जहां नेटवर्क नहीं है। यहां तो हितग्राहियों के साथ सेल्समैन भी परेशान रहते हैं। यहां राशन के लिए एक से दो दिन तक इंतजार करना पड़ता है। पत्रिका ने हितग्राहीयों को हो रही परेशानी के बारे में अवगत कराया तो जिला खाद्य अधिकारी केएस नाग ने इस ओर तत्काल पहल की बात कही है।

यहां एक,दो नहीं बल्कि 32 मुन्ना भाई पैसा लेकर चंपत हो गए, बायोमैट्रिक अटेंडेंस में पकड़ में आ गए अभ्यर्थी

कमजोर नेटवर्क के कारण परेशानी हो रही
ग्राम लोंडी में संचालित शासकीय उचित मूल्य की दुकान के सेल्समैन लोकेश कुमार ने बताया बाकी अन्य सुविधाएं ठीक है। जबसे अंगूठे के निशान के बिना राशन नहीं देने का आदेश आया है तब से यह समस्या आ रही है। कमजोर नेटवर्क के कारण परेशानी हो रही है। उन्होंने बताया की राशन दुकानों में हितग्राहियों की भीड़ लग जाती है। एक दिन में मुश्किल से 15 से 20 हितग्राहियों को ही राशन दे पाते हैं।

सर्व कराया जाएगा
इस मामले पर जिला खाद्य अधिकारी के एस नाग ने बताया की इस समस्या की जानकारी मिली है और अब चिप्स विभाग से चर्चा कर ज्यादा परेशानी वाले दुकानों की सूची बनाकर सर्वे कराया जाएगा।

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.