स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राशन कार्ड नवीनीकरण कराने की जल्दबाजी में आधार कार्ड बनाने उमड़ी जिला मुख्यालय में ग्रामीणों की भीड़

Chandra Kishor Deshmukh

Publish: Jul 18, 2019 08:16 AM | Updated: Jul 17, 2019 23:45 PM

Balod

राज्य सरकार द्वारा राशन कार्ड नवीनीकरण के लिए आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया है। इस नियम के चलते जिनका आधार कार्ड नहीं बना है वे लोग सैकड़ों की संख्या में बुधवार को कार्ड बनाने पहुंचे थे।

बालोद @ patrika . राज्य सरकार द्वारा राशन कार्ड नवीनीकरण के लिए आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया है। इस नियम के चलते जिनका आधार कार्ड नहीं बना है वे लोग सैकड़ों की संख्या में बुधवार को कार्ड बनाने पहुंचे थे।

राशन कार्ड के लिए आधार कार्ड की अनिवार्यता
पूरे जिले में जिला मुख्यालय में ही आधार कार्ड बनाने के कारण आज लोगों की भीड़ बढ़ गई थी। तहसील कार्यालय में लोगों की भीड़ को नियंत्रित करने पुलिस बुलानी पड़ गई। पुलिस के पहुंचने के बाद भी सिर्फ दो काउंटर होने से भीड़ कम नहीं हुई। हालांकि लोग व्यवस्थित और लाइन में लगकर अपनी बारी का इंतजार करते रहे। दरअसल राज्य सरकार ने राशन कार्ड नवीनीकरण और नाम जुड़वाने के लिए भी आधार कार्ड अनिवार्य किया है। जिसके कारण लोग बड़ी संख्या में आधार कार्ड बनाने पहुंच रहे हैं।

Read more : सरकार ने उज्ज्वला योजना के तहत गैस सिलेंडर तो दे दिए मगर रिफिलिंग कराने की सुविधा नहीं

रोज 150 आवेदन जमा और बन रहे है आधे
आधार कार्ड बनाने के लिए रोजाना तहसील कार्यालय में लगभग 150 आवेदन आ रहे है। जिलेभर में सिर्फ जिला मुख्यालय के तहसील कार्यालय में ही लोग आधार कार्ड बनवाने आ रहे है। 150 आवेदन जमा करने के बाद मुश्किल से 60-70 लोगों का ही कार्ड बन पा रहा है।

जल्दबाजी के चक्कर में बढ़ी भीड़
सरकार 15 से 29 जुलाई तक राशनकार्ड नवीनीकरण का समय दिया है। लोग जैसे ही गांवों में मुनादी कराई गई वैसे ही आधार कार्ड बनाने तहसील कार्यालय पहुंच रहे हैं। फिलहाल यह प्रक्रिया 29 जुलाई तक चलेगी।

Read more : छह छात्र शिकायत लेकर पहुंचे, स्टेज पर बुलाकर कटवा दिए हमारे बाल

ज्यादा आवेदन बच्चों के आधार कार्ड बनाने के लिए

आधार कार्ड बनाने के लिए सबसे ज्यादा लोग बच्चों को लेकर आ रहे है। लोग 6 माह से लेकर 2 साल के बच्चों को लेकर आधार कार्ड बनाने पहुंच रहे है। आधार कार्ड बनाने के लिए छोटे बच्चों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है। कई बच्चों का आधार कार्ड ही नहीं बन पा रहा है। इसका कारण यह है कि कई बच्चे की आंखों का स्केन करने पर वे आंखें बंद कर देते हैं। यह शिकायत खासकर 6 माह से साल भर के बच्चों में ज्यादा आ रही है। बच्चे जब आंख में स्कैनर लगाते है तो डर जाते है और कई बच्चे रोने लगते हंै।