स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यूपी के इस थाने में 24 साल से है भूत का डेरा, थानदार अपने ऑफिस में जाने से भी डरते हैं

Mohd Rafatuddin Faridi

Publish: Jul 24, 2019 16:48 PM | Updated: Jul 24, 2019 16:48 PM

Ballia

पुलिस को सता रहा भूत का डर, थानेदार अपने ऑफिस में जाने से भी डरते हैं।

बलिया . यूपी पुलिस को भूत का खौफ सता रहा है। जी हां, जिस खाकी वर्दी से बडे-बड़े अपराधी खौफ खाते हैं, वो पुलिस वाले भूत के डर से कांप रहे हैं। खौफ भी ऐसा कि अपने कक्ष तक में जाने को तैयार नहीं। थाने के कमरे भी बंद रखे जाते हैं। ये कहानी नहीं, बलिया जिले के एक थाने का सच्चा मामला है। यहां की पुलिस को 24 साल से एक भूत का भय सता रहा है। इसके डर से पिछले 24 साल से थानेदार से लेकर उपनिरिक्षक तक अपने कक्ष मे जाने से डरते हैं। खौफ के मारे कमरा छोड़कर बरामदे से ही थाना चलाते हैं। मालखाने में भी ताला लटका रहता है। दरअसल थाने में 24 साल पहले अटल मिश्रा नाम के एक युवक की हिरासत में मौत हो गयी थी। लोगों के साथ ही पुलिस को भी लगता है कि अटल मिश्रा की आत्मा आज भी वहां भटकती है। इसी डर से थानेदार हों या उपनिरिक्षक अपने कमरे में जाने की हिम्मत नहीं करते। यहां तक कि मालखाने पर भी तला ही लटका रहता है। जो भी यहां ट्रांसफर होकर आता है पहले थानाध्यक्ष के कक्ष के पूजा करता है उसके बाद ही वहां उसकी नौकरी शुरू होती है। अपना कक्ष होते हुए भी थानेदार और उपनिरिक्षक बरामदे में या परिसर में अन्यत्र टेबल लगाकर काम करते हैं। थाने में नई बिल्डिंग त क बन रही है।

 

 

आप सोच रहे होंगे इतना खौफ आखिर माजरा क्या है। पूरी कहानी हम आपको बताते हैं। बागियों के जिले बलिया में एक थाना पड़ता है भीमपुरा। इस थानाक्षेत्र का एक गांव है प्रेमरज। गांव में चर्चित किस्से के मुताबिक अटल बिहारी मिश्रा नाम का एक सुंदर और तेज-तर्रार युवक था, जिसकी युवाओं में खासी पैठ थी। अटल इलाहाबाद विश्वविद्यालय का होनहार छात्र भी था। 1995 में जब प्रधानी का चुनव आया तो अटल बिहारी मिश्रा के परिवार से भी काई मैदान में उतरा। उसके परिवार के मैदान में आने से विपक्षी बौखलाए गए। अटल भी गांव आकर चुनाव प्रचार में लगने वाला था। कहा जाता है कि विपक्षियों को ये डर था कि अगर अटल ने आकर चुनाव की कमान संभाल ली तो वह हार सकते हैं, क्योंकि उसकी युवाओं में अच्छी खासी पैठ थी।

 

आरोप है कि विपक्षियों ने पुलिस की मिलीभगत से अटल को गांव न आने देने का इंतजाम किया। एक रात पता चला कि अटल गांव आ रहा है। किरिहड़ापुर स्टेशन पर जैसे ही अटल उतरा, तत्कालीन भीमपुरा थानाध्यक्ष राम बड़ाई यादव ने उसे उठा लिया और थाने ले आकर पुलिस वालों ने थानाध्यक्ष के कक्ष में उसकी बेरहमी से पिटायी की। कहा जाता है कि वह पुलिस वालों से गुहार लगाता रहा, लेकिन उस पर दया नहीं आयी। अटल की थाने में ही मौत हो गयी और पुलिस इस पर लीपापोती करने लगी।

 

इस बीच अटल की मौत के कुछ ही दिन बाद एसओ के कक्ष में अनहोनी घटना शुरू हो गयी। कहा जाने लगा कि उसकी आत्मा वहां भटक रही है और उसकी आवाजें आती हैं। इसके बाद कक्ष में ताला बंद कर दिया गया, साथ ही मालखाने और बगल के उपनिरिक्षक कक्ष में भी ताला लटक गया। हालांकि ऐसे भी थानेदार आए, जिन्होंने इसको नहीं माना और थानाध्यक्ष के कमरे में बैठे, लेकिन जैसा कि बताया गया, उन लोगों के साथ घटनाएं घटनी शुरू हो गयीं। कई थानाध्यक्ष तो घायल भी हुए। इसके बाद से कार्यालय पर परमानेंट ताला लटकने लगा। मालखाना और उपनिरिक्षक का कक्ष भी लॉक हो गया। कमरे का दरवाजा देखकर आसानी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि ये बरसों से नहीं खुला। वर्तमान थानाध्यक्ष सत्येन्द्र राय भी कमरे में नहीं बैठते। खौफ का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि थाने के सिपाही मनोज सिंह से पूछा गया तो उन्होंने वहां मारे गए अटल मिश्रा को अटल बाबा कहा। बताया कि अटल बाबा की किसी तरह यहां मौत हो गयी थी। उसके बाद से ही ऐसा है। ढाई साल पहले ट्रांसफर होकर भीमपुरा थाने में आए सिपाही ने बताया कि इस कक्ष में थानेदार बैठते हैं तो कोई न कोई घटना घट जाती है। हालांकि यहां क्या हुआ था यह बताने को सिपाही तैयार नहीं हुआ। औराई कला गांव निवासी रमाशंकर सिंह बताते हैं कि 24 साल पहले भी उनकी दुकान वहीं थी। यहां अटल मिश्रा को भोर में पुलिस पकड़कर लाई और झूठा फंसाकर जघन्य हत्या कर दी गयी थी। कहा कि एक सीओ औरएसओ ने इतना मारा कि उनकी मौत हो गयी। उनके मुताबिक अब अटल की आत्मा भटकती है, जिसके चलते थानेदार अपने कक्ष में नहीं जाते।

 

जिस पुलिस पर वैज्ञानिक तर्कों और तथ्यों व पुख्ता दलीलों के आधार पर शहर के क्राइम कंट्रोल और शांति व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी है वही आडम्बर और भूत-प्रेत के चक्कर में फंसी हुई है। हालांकि इलाके के कुछ बुजुर्गों की बात काफी हद तक सही मालूम होती है कि मामला भूत का नहीं, बल्कि पुलिस के उस जुल्म का है, जिसमें एक बेकसूर की जान चली गयी और चन्द पुलिस वालों के गुनाह से भीमपुरा थाने की पुलिस आज भी बाहर नहीं निकल पायी है।

By Amit Kumar