स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मूर्ति विसर्जित करने गये छह युवक नदी में डूबे, तीन शव को पुलिस ने बरामद किया

Ashish Kumar Shukla

Publish: Oct 30, 2019 20:35 PM | Updated: Oct 30, 2019 20:35 PM

Ballia

दीपावली पूजा के उत्सव पर माता लक्ष्मी के पूजन के लिए मूर्ति स्थापन की गई थी

बलिया. जिले के सिकंदरपुर में मंगलवार को एक ही गांव के पांच युवकों के गंगा में डूब जाने से हाहाकार मच गया। सभी युवक पूजन के बाद लक्ष्मी की प्रतिमा विसर्जन करने घाघरा नदी में आये थे। बलिया जिले के सिकंदरपुर थाना इलाके के जललीपुर गांव में दीपवली पूजा के उत्सव पर माता लक्ष्मी के पूजन के लिए मूर्ति स्थापन की जाती है।

हर साल की तरह इस साल भी गांव के युवकों ने पूजा के उत्सव पर प्रतिमा स्थापित की थी, और चार दिन की दीपावली पूजा के समापन के बाद मंगलवार को प्रतिमा को विसर्जित करने के लिए घाघरा नदी में ले गये थे। गांव के बच्चों युवक और बूढ़ों को मिलाकर तकरीबन पचास लोग एक ही गांव से वहां जाकर इस आयोजन में हिस्सा ले रहे थे।

सिकंदरपुर स्थित घाघरा नदी के किनारे माता के जैकारे के साथ सभी गांव के लोग प्रतिमा को पानी में उतारकर उसे विसर्जित कर ही रहे थे कि इसी समय मूर्ति को किनारे से पकड़े हुए पांच युवक भी गंगा में समाने लगे। मूर्ति बड़ी होने के कारण पानी के उसके समाने को लोग देखते रहे किसी का ध्यान बच्चों की तरफ गया तो सबने बचाने की कोशिश की।
घाघरा में बढ़ाव व बहाव अधिक होने के कारण पानी ने पांचों में समेट लिया। लोग पानी में उतरकर तलाश शुरू किये लेकिन उनका पता नहीं लग सका।

इस घटना की जानकारी होते ही आस-पास के भी सैकड़ों लोग वहां आ पहुंचे। इलाके के गोताखोंरो को भी बुलाया गया। पर घाट के किनारे कई मूर्तियों के विसर्जन से इन्हे तलाश पाना मुश्किल हो गया। सूचना के बाद पहुंची पुलिस की सक्रियता के बाद गोताखोरों की टीम लगाई गई। तीन शवों को बरामद कर लिया गया। जानकारी के बाद गांव में हाहाकार मच गया।

[MORE_ADVERTISE1]