स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

निर्भया की बहन बोली, दरिंदे ज़िंदा हैं ये सोचकर 7 साल से मेरा दिल जलता था

Mohd Rafatuddin Faridi

Publish: Jan 08, 2020 21:18 PM | Updated: Jan 08, 2020 21:18 PM

Ballia

.

बलिया. निर्भया के दरिंदों को फांसी का दिन मुकर्रर हो चुका है। सुप्रीम कोर्ट ने उनकी फांसी की तारीख 22 जनवरी मुकर्रर कर दी है। कोर्ट के इस फैसले से निर्भया का परिवार खुश है। गाँव में रहने वाले चचेरे दादा कहते हैं कि उनको अब जाकर सुकून मिला, जबकि उसकी चचेरी बहन का कहना है कि उसका इंतजार ख़त्म हुआ। पिछले सात सालों से वह इस इन्तेज़र में थी कि उसकी बहन के साथ ऐसी दरिंदगी करने वालों को उनके अंजाम तक कब पहुंचाया जाता है, वो फांसी का फंदा कब उनका गला कसता है। उसकी बहन का कहना है कि सात साल से उसे ये बर्दाश्त नहीं होता था कि उसकी बहन के दरिंदे और क़ातिल कैसे ज़िंदा हैं। इस बात से उसका कलेजा जलता था। पर कोर्ट के इस फैसले से अब वह खुश है। उसने बताया कि पिछला फैसले के बारे में वह ज़्यादा इसलिये नहीं जान पायी थी क्योंकि उसके यहां बिजली नहीं थी। पर इस बार उसे पता चल गया है और वह खुश है।

By Amit Kumar

[MORE_ADVERTISE1]
[MORE_ADVERTISE2]