स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Nirbhaya Case निर्भया के दादा बोले, इंसाफ के लिये आंखें पथरा गयी थीं, अब जाकर सुकून मिला

Mohd Rafatuddin Faridi

Publish: Jan 08, 2020 12:39 PM | Updated: Jan 08, 2020 12:39 PM

Ballia

.

बलिया. पूरे देश को दहला देने वाले दिल्ली के निर्भया गैंगरेप कांड के चार दोषियों को फांसी की सजा का दिन मुकर्रर हो चुका है। चारों को आगामी 22 जनवरी को सुबह सात बजे फांसी के फंदे पर लटका दिया जाएगा। यह खबर सुनते ही बलिया के नरहीं थानाक्षेत्र स्थित गांव में खुशी की लहर दौड़ गयी। सबसे ज्यादा खुश था निर्भया का परिवार। निर्भया के दादा ने कहा कि इंसाफ की आस में सात साल से आंखें पथरा गयी थीं। अब जाकर दिल को सुकून मिला है।

[MORE_ADVERTISE1]
[MORE_ADVERTISE2]

निर्भया के दादा ने कहा कि न्यायिक फैसला हमारे लिये बड़ा दिन है। चारों दोषियों को 22 जनवरी को फांसी दिय जाना अब तय हो चुका है। इस पर आखिरी मुहर लग गयी है। उन्होंने कहा कि वह एक महान दिन होगा। उन्होंने इसके लिये मीडिया व इस मामले को लेकर आवाज उठाने वाले अपने और देशवासियों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रक्रिया के चलते विलम्ब जरूर हुआ, लेकिन मेरा पूरा परिवार और गांव और साथी व जानने वाले खुश हैं।

By Amit Kumar

[MORE_ADVERTISE3]