स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

टिकट नहीं मिलने पर बगावत कर चुनाव लड़ने वाली इस महिला नेता की बीजेपी में वापसी, शुरू हुआ विरोध

Sarweshwari Mishra

Publish: Dec 01, 2018 12:03 PM | Updated: Dec 01, 2018 12:03 PM

Ballia

केतकी ने 2017 चुनाव में बांसडीह से निर्दलीय चुनाव लड़ा था और मामूली अंतर से हार गई थी।

बलिया. 2017 विधानसभा चुनाव में बीजेपी से बगावत कर चुनाव लड़ने वाली केतकी सिंह की पार्टी में वापसी हुई है। लोकसभा चुनाव से पहले इनकी वापसी से बलिया में पार्टी मजबूत होगी। केतकी ने 2017 चुनाव में बांसडीह से चुनाव लड़ा था और मामूली अंतर से चुनाव हारा था।


बता दें कि भारतीय जनता पार्टी से बगावत कर पिछला विधानसभा चुनाव निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर लड़ने वाली केतकी सिंह को फिर से पार्टी में शामिल कर लिया गया है। लखनऊ स्थित भाजपा कार्यालय पर प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय की मौजूदगी में केतकी सिंह ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है। विधानसभा चुनाव में नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी के हाथों कुछ ही मतों से हार थी। भाजपा में शामिल होने के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने उन्हें बधाई दिया।


विधानसभा चुनाव 2017 में भाजपा-भासपा गठबंधन के चलते बांसडीह की सीट भासपा के खाते में चली गई थी। तब भाजपा ने केतकी सिंह का टिकट काटकर भासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर को दे दिया था। उस समय केतकी सिंह ने बतौर निर्दल चुनाव लड़ा था। उन्हें भाजपा-भासपा गठबंधन के प्रत्याशी को पीछे छोड़ दिया था। हालांकि कुछ मतों से ही वे चुनाव हार गयी थी।


2012 में सपा को दी थी टक्कर
केतकी सिंह ने 2012 यूपी विधानसभा चुनाव में सपा के रामगोविंद चौधरी को कड़ी टक्कर दी थी। 2017 में बीजेपी ने केतकी सिंह का टिकट काटकर भासपा और भाजपा गठबंधन के बाद ओमप्रकाश राजभर को बांसडीह विधानसभा सीट से टि‍कट दे दिया था।