स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

देवशयनी एकादशी: 12 जुलाई से पहले खत्म कर लें अपने सभी मांगलिक कार्य, नहीं तो चार महीने तक करना होगा इंतजार

Sarweshwari Mishra

Publish: Jul 07, 2019 14:45 PM | Updated: Jul 07, 2019 14:45 PM

Ballia

योग निद्रा में चार महीने तक रहेंगे भगवान विष्णु

बलिया. हर साल की तरह इस साल भी आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की 11वीं तिथि को देवशयनी एकादशी मनाई जाएगी। इस बार यह तिथि 12 जुलाई को मनाई जाएगी। पुराणों के अनुसार आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की 11वीं तिथि से लेकर चार महीनों तक भगवान विष्णु योग निद्रा में रहते हैं। जिसे देवशयनी एकादशी कहते हैं। इस दिन से 16 संस्कारों पर रोक लग जाएगा। बतादें कि आप इन दिनों में पूजन, अनुष्ठान, घर की मरम्मत, वाहन क्रय जैसे काम किए जा सकेंगे। लेकिन विवाह, उपनयन संस्कार, गृह प्रवेश, कर्ण भेदन, गृहारम्भ जैसे मांगलिक कार्य पर रोक लग जाएगा।


बलिया के ज्योतिषाचार्य पं. जयराम तिवारी के अनुसार चातुर्मास से लेकर 4 महीने तक भगवान विष्णु योग निद्रा में रहते हैं। वहीं इन दिनों में गुरू और शुक्र तारा भी अस्त हो जाता है जिसके कारण विवाह, उपनयन संस्कार, गृह प्रवेश, कर्ण भेदन, गृहारम्भ जैसे मांगलिक कार्य पर रोक लग जाता है। उन्होंने बताया कि खरमास शुरू होने से पहले इन छ: दिनों में 2, 8, 10 व 11 जुलाई तक शुभ मुहूर्त है। जिसमें आप अपने मांगलिक कार्य पूर्ण कर सकते हैं। बताया कि 12 जुलाई को भी दिन में मुहूर्त है। जिसके बाद मांगलिक कार्य का मुहूर्त खत्म हो जाएगा।


देव प्रबोधनी एकादशी
4 महीने के बाद 8 नवम्बर को देव प्रबोधिनी एकादशी होगी और 18 नवम्बर से वैवाहिक कार्य शुरू हो जाएंगे। उन्होंने बताया कि 11 जुलाई को शाम प्रदोष काल से भगवान विष्णु की पूजा शुरू हो जाएगी और एकादशी के पूर्णमान तक पूजन जारी रहेगा।