स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कुंए में जहरीली गैस के रिसाव से दो सगे भाई सहित तीन की मौत

Bhaneshwar Sakure

Publish: Aug 16, 2019 20:23 PM | Updated: Aug 16, 2019 20:23 PM

Balaghat

खैरलांजी थाना क्षेत्र के भौरगढ़ गांव की घटना, कुंए से पानी लेने के दौरान हुआ हादसा, अब तक जिले में आधा दर्जन से अधिक लोगों की हो चुकी है मौत

बालाघाट/चिखलाबांध. कुंए में जहरीली गैस के रिसाव शुक्रवार को फिर तीन लोगों की असमय ही मौत हो गई। जिसमें दो सगे भाई शामिल है। वहीं इस घटना में चौथा व्यक्ति बाल-बाल बच गया। मामला खैरलांजी थाना क्षेत्र के भौरगढ़ गांव का है। मृतकों में महेश पिता सेवकराम (२७) और संजय पिता सेवकराम शेंडे दोनों सगे भाई और अजय पिता अशोक बिसेन (२२) वर्ष भी शामिल है। इसके अलावा किशोर पिता सदाशिव (४२) बाल-बाल बच गया। ये सभी भौरगढ़ गांव के ही निवासी है। कुंए में जहरीली गैस के रिसाव से जिले में अब तक आधा दर्जन से अधिक लोगों की मौतें हो चुकी है।
जानकारी के अुनसार शुक्रवार को भौरगढ़ मुख्यालय में एक ग्रामीण पीने के पानी के लिए कुंए में गया था। जब वह मोटर पंप चालू करने गया था तो मोटर शुरू नहीं हो पाई। जिसके कारण वह कुंए में उतर गया और उसकी मौत हो गई। इसके बाद पहला ग्रामीण पानी लेकर नहीं आया तो दो और ग्रामीण उसे खोजने के लिए पहुंचे। वे भी बगैर किसी सावधानी के सीधे कुएं में उतर गए। जिसके कारण इन दोनों की मौत हो गई। मृतकों में महेश पिता सेवकराम 27 वर्ष और संजय पिता सेवकराम शेंडे दोनों सगे भाई थे। वहीं तीसरे मृतक में इसी ग्राम का निवासी अजय पिता अशोक बिसेन 22 वर्ष भी शामिल है। अजय बिसेन धान रोपाई का कार्य संपन्न करने के लिए खेत आया हुआ था।
इस घटना की सबसे बड़ी बात यह रही कि चौथा आदमी किशोर पिता सदाशिव ४२ वर्ष जो कि उक्त कुंए में उतर रहा था। लेकिन जैसे ही वह कुछ दूरी पर गया तो उसकी सांस फूलने लगी, जिसके कारण वह कुएं से बाहर आ गया। बालबाल बचे किशोर पिता सदाशिव के अनुसार मृतक के घर पर धान रोपाई का कार्य समाप्त होने वाला था। वह अपने खेत में कार्य कर रहा था। मृतक के परिजनों द्वारा आवाज लगाए जाने पर वह कुंए में उतरने ही वाला था। लेकिन जैसे ही उसे गैस के होने का आभास हुआ वह बाहर आ गया। जिसके कारण वह बाल-बाल बच गया। इधर, घटना की सूचना मिलते ही खैरलांजी पुलिस मौके पर पहुंची। तीनों मृतकों के शव को बाहर निकाला। पंचनामा कार्रवाई की। वहीं मर्ग कायम कर मामले को जांच में लिया। इस दौरान एसडीओपी वारासिवनी आरएन परतेती, खैरलांजी थाना प्रभारी रामबाबु चौधरी अपने स्टॉफ के साथ घटनास्थल पर उपस्थित रहे।
गौरतलब है कि बारिश के दिनों में किसानों को हमेशा कुंए में उतरने के पूर्व सावधानी बरतने की हिदायत दी जाती है। सावधान होकर ही कुंए से संबंधित कार्य करने के लिए कहा जाता है। इसके बावजूद ग्रामीण समझने के लिए तैयार नहीं है। यह लापरवाही कब उनकी जान की दुश्मन बन जाती है, खुद उन्हें भी पता ही नहीं चल पाता है। ताजा मामला खैरलांजी थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत भौरगढ़ में शुक्रवार को देखने मिला। यहां पर एक छोटी सी लापरवाही ने 2 सगे भाई सहित 3 लोगों की जान ले ली। तीनो ही कुंए में जहरीली गैस होने के कारण काल के गाल में समा गए।
मातम में बदली खुशियां
शुक्रवार को क्षेत्र में कजलिया पर्व भी मनाया जा रहा है। लेकिन इस घटना से कजलिया पर्व की खुशियां मातम में बदल गई। दरअसल, ग्रामीण क्षेत्रों में कजलिया पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। जिसके कारण गांव में खुशी का माहौल रहता है। लेकिन इस घटना के बाद गांव में मातम पसरा हुआ है।
इनका कहना है
ऐसे दर्दनाक मामलों में सभी को सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है।शुक्रवार को भौरगढ़ से तीनों ग्रामीणों के शव को कुंए से बाहर निकाल लिया। भौरगढ़ की जनता ने अच्छा सहयोग दिया। मर्ग कायम कर मामले की जांच की जा रही है।
-रामबाबू चौधरी, थाना प्रभारी, खैरलांजी