स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

तीन माह से बिछड़े दंपत्ति मिले लोक अदालत में

Bhaneshwar Sakure

Publish: Sep 15, 2019 20:50 PM | Updated: Sep 15, 2019 20:50 PM

Balaghat

आपसी सहमति से पति-पत्नी में हुआ समझौता

बालाघाट. बैहर मुख्यालय के व्यवहार न्यायालय बैहर में शनिवार को नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। इस लोक अदालत में अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश आनंद गौतम, मधुसूदन जंघेल न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, पंकज सविता न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी बैहर, जीएल गौतम अध्यक्ष अधिवक्ता सहित अन्य मौजूद थे।
नेशनल लोक अदालत में राजीनामा योग्य प्रकरणों के निराकरण के लिए 3 खंडपीठ गठित की गई थी। नेशनल लोक अदालत में आनंद गौतम अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश बैहर की खंडपीठ में मोटर दावा दुर्घटना के 9 प्रकरण प्रस्तुत किए गए। जिसमें से 3 प्रकरणों में राजीनामा के माध्यम से समझौता हुआ। मधुसूदन जंघेल न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी की खंडपीठ में 180 प्रकरण राजीनामा के लिए प्रस्तुत किए गए थे। जिसमें से 6 प्रकरणों में आपसी राजीनामा के माध्यम से समझौता हुआ। नेशनल लोक अदालत में आपराधिक प्रकरण, परक्राम्य अधिनियम की धारा-138 के अंतर्गत प्रकरण, बैंक रिकवरी संबंधी मामले वैवाहिक प्रकरण, जल,संपत्ति कर संबंधी प्रकरणो का निराकरण किया गया। न्यायालय में लंबित प्रकरणों में से कुल 208 प्रकरण प्रस्तुत किए गए, जिसमें 17 प्रकरणों में राजीनामा के माध्यम से समझौता हुआ। मधुसूदन जंघेल, न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी के न्यायालय में एक मामला ऐसा देखने में आया जो कि विगत तीन माह से लंबित पारिवारिक विवाद के अन्तर्गत भरण पोषण से संबंधित चल रहा था। जिसमें आवेदिका की ओर से आरके चौहान अधिवक्ता और अनावेदक की ओर से आरआर पटले अधिवक्ता द्वारा प्रकरण में पैरवी की जा रही थी। दोनों पक्षों के अधिवक्तागण के सफल समझाइश व सहयोग से पति पत्नी अब एक साथ जीवन निर्वाह करने के लिए हंसी खुशी न्यायालय से एक साथ अपने घर गए।