स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

छोटे तालाब से हटेगा अतिक्रमण

Mukesh Yadav

Publish: Jan 23, 2020 14:36 PM | Updated: Jan 23, 2020 14:36 PM

Balaghat

पार्षदों ने एसडीएम के संज्ञान में लाया तालाब का अतिक्रमण

कटंगी। नगर के बस स्टैंड से महज कुछ दुरी पर लालबर्रा रोड में स्थित छोटे तालाब (मुंदीवाड़़ा तालाब) का अब शीघ्र ही अतिक्रमण हटाया जाएगा। पार्षदों ने एक दिन पूर्व ही नपा कार्यालय में 26 जनवरी के आयोजन की रुपरेखा तैयार करने के लिए आहुत बैठक में अनुविभागीय अधिकारी प्रमोद सेनगुप्ता को अतिक्रमण से जुड़ी जानकारी दी है। इसके बाद एसडीएम ने मुख्य नगर पालिका अधिकारी से अतिक्रमण के संबंध लिखित में जानकारी मांगी है। गौरतलब हो कि छोटे तालाब में कई एकड़ पर अतिक्रमण कर खेती की जा रही है। नपा ने पूर्व में भी इस अतिक्रमण को हटाया था। लेकिन भूमि अधिग्रहित नहीं की। अतिक्रमणकारी द्वारा पुन: अतिक्रमण कर लिया गया है। हालाकिं एसडीएम ने अतिक्रमण हटते ही तालाब की भूमि को तार की फंेसिंग लगाकर सुरक्षित करने के निर्देश दिए हैं। 26 जनवरी के बाद संभवत: तालाब से अतिक्रमण हटाने की कागजी कार्रवाई शुरू हो सकती है।
नगर के तीन बड़े तालाबों में पहले से ही काफी अतिक्रमण फैला हुआ है। वहीं तालाबों की भूमि पर अतिक्रमण करने का सिलसिला अब भी जारी है। इस वजह से तालाबों का क्षेत्रफल लगातार सिकुड़ते जा रहा है। इन तालाबों से अतिक्रमण हटाकर संरक्षित करने की मांग भी की जा रही है। लेकिन जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा एवं प्रशासनिक स्तर पर बरती जाने वाली लापरवाही के कारण केवल आश्वासन और दावे किए जा रहे है। तालाबों की सुरत बदलने की कवायद पर जमीनी स्तर पर कोई काम नहीं हो रहा है।
उल्लेखनीय है कि छोटे तालाब में नगर परिषद ने जीर्णोद्वार के नाम पर लाखों रुपए खर्च किए हैं। मगर, इसके बावजूद तालाब की सुरत नहीं बदली गई है। तालाब का गहरीकरण नहीं होने की वजह से गर्मी के मौसम में हर साल तालाब पूरी तरह से सूख जाता है और तालाब में बड़ी-बड़ी दरारें देखने को मिलती है। इन तालाबों पर आश्रित मछुआरों एवं नगर के जागरूकजनों के द्वारा काफी लंबे अर्से से तालाबों के संरक्षण की मांग की जा रही है। लेकिन तालाबों के संरक्षण के नाम पर केवल पानी की तरह पैसा बहाया जा रहा है। फिलहाल अभी बड़े तालाब का जीर्णोद्वार तथा गहरीकरण का प्रस्ताव बनाया गया है। इस काम को किस तरह से किया जाता है यह देखने के बाद ही पता चल पाएगा कि अधिकारी, जनप्रतिनिधि तालाबों के संरक्षण को लेकर कितने गंभीर है।
इनका कहना है।
बैठक में पार्षदों ने छोटे तालाब के अतिक्रमण के संबंध में जानकारी दी है। हमने नपा से लिखित में मांगा है। 26 जनवरी के बाद किसी भी तरह की कार्रवाई की जाएगी।
प्रमोद सेनगुप्ता, एसडीएम कटंगी

[MORE_ADVERTISE1]