स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

११ लाख के स्कूल भवन निर्माण में भ्रष्टाचार के आरोप

Mukesh Yadav

Publish: Jan 23, 2020 14:21 PM | Updated: Jan 23, 2020 14:21 PM

Balaghat

दो बार जांच में सामने आए अलग-अलग परिणाम
कौन सही और कौन गलत, गफलत में शिकायतकर्ता
लालबर्रा क्षेत्र के दादिया में बनाए जा रहे प्राथमिक स्कूल भवन निर्माण का मामला

बालाघाट. जिले के लालबर्रा जनपद क्षेत्र की ग्राम पंचायत ददिया के आमाटोला में बनाए जा रहे प्राथमिक स्कूल के भवन निर्माण में भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जा रहे हैं। इस मामले में बकायदा सीएम हेल्पलाइन में शिकायत भी की गई। शिकायत में दो बार जांच में अलग-अलग परिणाम सामने आए हैं। अब शिकायतकर्ता गफलत में है कि कौन से जांच अधिकारी की रिपोर्ट सही मानी जाए और किसकी गलत! शिकायतकर्ता द्वारा जांच अधिकारियों की जांच में भी संदेह व्यक्त कर पुन: जनसुनवाई में शिकायत की गई है। इस शिकायत के माध्यम से किसी अन्य विभागीय अधिकारियों के माध्यम से जांच करवाए जाने की मांग की गई है।
यह है पूरा मामला
जानकारी के अनुसार ग्रामीणों की मांग पर शासन स्तर से आमाटोला में प्राथमिक स्कूल भवन स्वीकृत किया गया है। भवन के निर्माण की जिम्मेदारी पंचायत को सौंपी गई है। पंचायत द्वारा ११ लाख ३५ हजार की खनिज मद लागत से भवन निर्माण कार्य शुरू भी करवा दिया गया है। लेकिन निर्माण के साथ ही भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जा रहे हैं। शिकायतकर्ता राजू पंचेश्वर के अनुसार आमटोला में शासकीय प्राथमिक स्कूल के भवन का निर्माण पंचायत द्वारा ठेकेदार के माध्यम से करवाया जा रहा है। लेकिन निर्माण में तय मापदंडों व गुणवत्ता का ध्यान नहीं जा रहा है। यहां तक की बिना मजबूत बेस तैयार करे ही लाखों के भवन का निर्माण किया जा रहा है। ऐसे में खोखली बुनियाद पर किया जा रहा यह लाखो का निर्माण कार्य कितने दिनों तक टिक पाएगा स्पष्ट समझा जा सकता है।
मजबूत बेस का आभाव
ग्राम के जागरूक युवा राजू पंचेश्वर के अनुसार स्कूल भवन की निर्माण प्रारंभ होने के पहले मजबूत बेस तैयार किया जाना चाहिए था। लेकिन ठेकेदार द्वारा कम गहराई का नाली नुमा गड्ढा खोदकर फाउंडेशन उठाना शुरू कर दिया गया है। जबकि करीब चार से पांच फिट नीचे पहले लोहे की जाली डालने के बाद फाउंडेशन के लिए जुड़ाई कार्य किया जाना चाहिए था। वहीं मापदंड अनुसार लोहे का उपयोग भी नहीं किया जा रहा है। १२ एमएम की राड के साथ १० एमएम की राड लगा दी गई है। इसके अलावा निम्न स्तर की सीमेंट, भरन, रेत व पहले से उपयोग किए ईंटो का उपयोग किया जा रहा है। मौके पर लगाया गया साइन बोर्ड में अधूरी जानकारी अंकित की गई है इससे स्पष्ट होता है कि निर्माण में काफी अनियमित्ताएं बरती जा रही है।
जांच में अलग-अलग परिणाम
इस मामले की राजू पंचेश्वर द्वारा सीएम हेल्पलाइन में शिकायत क्रमांक 9770046 के द्वारा शिकायत दर्ज कराई गई है। इसके बाद मौके पर जांच करने समन्वय अधिकारी महेश फरदे पहुंचे थे। इन्होंने भवन का निरीक्षण करने पर पाया कि निर्माण में मापदंडो का ध्यान नहीं रखा जा रहा है वहीं निर्माण सामग्री की गुणवत्ता को लेकर भी संदेह व्यक्त किया गया। लेकिन दोबार जिला शिक्षा केन्द्र के माध्यम से जांच करवाए जाने पर अधिकारी द्वारा निर्माण कार्य मापदंड के अनुसार सही तरह से किए जाने की रिपोर्ट बताई गई है। अब इस मामले में दोनों जांच अधिकारियों में किसकी जांच रिपोर्ट सही मानी जाए सवाल खड़े हा रहा है। वहीं शिकायतकर्ता राजू पंचेश्वर ने अन्य विभागीय अधिकारी से जांच करवाए जाने की मांग की है।
वर्सन
निर्माण कार्य की तकनीकि जांच आवश्यक है। आगामी समय में इसी भवन में बच्चे बैठकर शिक्षा अध्यन करेंगे, जिनकी सुरक्षा को लेकर संदेह बना रहेगा। दोनों अधिकारियों ने अलग-अलग जांच रिपोर्ट दी है, अब किसकी रिपोर्ट सही मानी जाए यह सवाल खड़े हो रहा है। अन्य अधिकारी से निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।
राजू पंचेश्वर, जागरूक युवा

हमारे द्वारा मौके पर पहुंचकर निर्माण कार्य की जांच की गई। शिकायतकर्ता द्वारा लगाए गए आरोप सही पाए गए हैं। तकनीकि कमियां पाई गई है। हमने रिपोर्ट वरिष्ठ अधिकारियों को सांैप दी थी।
महेश फरदे, समन्वय अधिकारी लालबर्रा

हमे नहीं मालूम की जनपद के अधिकारी ने किस तरह से जांच की। हमारी जांच में सबकुछ सही होना पाया गया है। पूर्व के जांच अधिकारी को पहले हमसे स्टीमेट मंगवाना था फिर जांच करना था। स्टीमेट के आधार पर ही लोहे का उपयोग किया गया है।
भास्कर शिव, जांच अधिकारी जिला शिक्षा केन्द्र

[MORE_ADVERTISE1]