स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

श्रावस्ती में शुरू हुआ बाढ़ का कहर, दर्जनों गांव आये चपेट में

Akansha Singh

Publish: Jul 16, 2019 11:41 AM | Updated: Jul 16, 2019 11:41 AM

Bahraich

नेपाल में तेज बरसात के कारण उफनाई राप्ती नदी ने अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया है।

श्रावस्ती. नेपाल में तेज बरसात के कारण उफनाई राप्ती नदी ने अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया है। नेपाल में अधिक बरसात होने के कारण जिले की राप्ती का जलस्तर दो दिन पहले खतरे के निशान से 32 सेंटीमीटर ऊपर हो गया था। श्रावस्ती जिले के दर्जनों गांव बाढ़ की मार झेल रहे हैं। कुछ जगहों पर मुख्यालय को जोड़ने वाली कुछ सड़के कट गई हैं तो कुछ सड़कों पर पानी भरा है। जिसके कारण लोगो का संपर्क मुख्यालय से सीधा संपर्क टूट गया है। उन्हें कई किलोमीटर का चक्कर लगाकर मुख्यालय आना पड़ रहा है।

सोमवार को राप्ती का जलस्तर खतरे के निशान से तो कम हो गया मगर राप्ती का पानी इकौना तहसील के करीब दो दर्जन से अधिक गांवों में भर गया है। वहीं भिनगा इकौना मार्ग पर भी पानी आ गया है। सड़क पर एक फुट से ऊपर पानी बह रहा है जिसकी वजह से भिनगा इकौना मार्ग का आवागमन ठप हो गया है। राप्ती का पानी बढ़ने से इकौना तहसील के कोटवा, दहावरकला, इमलिया, महरौली, अंधरपुरवा, भोजपुर, मनोहरापुर, मनिकौरा, शिवाजोत, गनेशपुर, नरायनजोत, सिरसा, किढिहौना व मलौना खसियारी सहित दो दर्जन से अधिक गांवों में पानी भर गया है। अंधरपुरवा, इमलिया, महरौली, भोजपर, शिवाजोत सहित कई स्कूलों में बाढ़ का पानी भर जाने से बच्चों की पढाई भी ठप्प हो गई है।

वहीं राप्ती का जलस्तर खतरे के निशान से कम होने पर जमुनहा इलाके में अब कटान ने भी अपना रुख अख्तियार कर लिया है। राप्ती की कटान की जद में सबसे पहले भिनगा व जमुनहा तहसील को जोड़ने वाला मधवापुर घाट पुल आया। बाढ़ के कारण इस पुल का अप्रोच कट रहा है। जिसे बचाने की जद्दोजहद की जा रही है। डीएम ने भी मधवापुर घाट का निरीक्षण कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए हैं। वहीं डीएम और एसपी लगातार बाढ़ से प्रभावित गांवों का दौरा कर रहे हैं। जहां गांव तक जाने का रास्ता नही है वहां मोटर बोट से फ्लड पीएससी के साथ गांवों का दौरा कर रहे हैं।