स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इंटरनेट कॉलिंग कर मांगते थे फिरौती, दो दबोचे

Kashyap Avasthi

Publish: Oct 22, 2019 23:08 PM | Updated: Oct 22, 2019 23:08 PM

Bagru

- हिंगोनियां में फायरिंग करने वाले दो बदमाश गिरफ्तार
- डेढ दर्जन अपराधों में थे शामिल, हथियार बरामद

जयपुर. जोबनेर थाना इलाके के हिंगोनियां गांव में 6 अक्टूबर को निवासी मूलचन्द जैन के मकान व आसपास के घरों में फायरिंग के मामले में पुलिस ने दो बदमाशों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इनके पास से हथियार व मोबाइल बरामद किए हैं। थानाधिकारी फू लचन्द शर्मा ने बताया कि जीतू बना व देवाराम रेवाड उर्फ देवा गैंग के बीच की कड़ी कालवाड इलाके के बुगालिया निवासी कमलेश उर्फ कमल बाज्या (24) व नरैना के सीतारामपुरा निवासी बंशी गुर्जर (21) को गिरफ्तार किया है। बदमाशों से एक पिस्टल व चार मोबाइल बरामद किए हैं।


घटना के बाद टीम गठित कर कांस्टेबल नरेन्द्र कुमार, सुनील कुमार, श्रवण कुमार, सियाराम, मुकेश, नेतराम, राकेश को शामिल किया गया। मुखबिर की सूचना पर मंगलम सिटी, सूर्योदय रेजिडेंसी कालवाड रोड पर फ्लैट से कमल बाज्या व बंशी गुर्जर को पकड़ा गया। दोनों के पास से एक अवैध लोडेड पिस्टल व लोकेशन छिपाने के लिए डोंगल व मोबाइल बरामद किए गए। कालवाड़ थानाधिकारी राजेश चौधरी के निर्देश पर स्थानीय पुलिस भी जोबनेर पुलिस की मदद के लिए मंगलम सिटी पहुंची।


पूछताछ में बदमाशों ने बताया कि ये जीतू गैंग व देवा गैंग के बीच की कड़ी के रूप में कार्य कर रहे थे। इनके के खिलाफ विभिन्न थानों में चोरी, लूट, डकैती व आम्र्स एक्ट के डेढ दर्जन मामले दर्ज हैं। ये दीवाली बाद एक बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे।


ऐेसे देते थे वारदात को अंजाम
बदमाश डोंगल का उपयोग कर नेट कॉलिंग से धमका कर वारदात करते थे। अवैध हथियारों की सप्लाई व धनाड्य लोगों के मकानों व प्रतिष्ठानों पर फायरिंग कर दहशत पैदा कर वसूली करते थे। थानाधिकारी फू लचन्द शर्मा के नेतृत्व में जोबनेर पुलिस को दो महीने में छठी बडी कामयाबी हासिल हुई है। स्थानीय पुलिस ने विगत 21 अगस्त को हार्डकोर अपराधी जीतू बना को पकडने में अहम भूमिका निभाई। इसके बाद बावरिया गैंग द्वारा हनीटैप (Honey trap) के मामले में त्वरित कारवाई करते हुए आरोपियों को पकड़ा। फिर कछुआ बेच कर ठगने वाले गिरोह के सदस्यों को तीन घंटें में ही दबोच लिया व चौथी सफलता इस गिरोह के सदस्यों को पकड़ा।