स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कछुए की चाल में फंसा, गवां बैठा ढाई लाख

Kashyap Avasthi

Publish: Sep 15, 2019 22:36 PM | Updated: Sep 15, 2019 22:41 PM

Bagru

थैले में मरा कछुआ थमाकर ले गए रकम

जोबनेर. जिंदा कछुआ बेचकर जल्द अमीर बनने के चक्कर में एक जना अपने जीवन भर की गाढी कमाई देकर ठगी का शिकार हो गया। हालांकि गिरोह के सदस्य ने पीडि़त का मरा हुआ कछुआ पकड़ा दिया और रकम लेकर फरार हो गया। इसी बीच गिरोह के सदस्यों ने जिंदा कछुआ खरीदने का झांसा देकर और रकम ऐंठनी चाही लेकिन पीडि़त ने ठगी का अहसास होने पर थाने में मामला दर्ज कराया।


जोबनेर थाने के एच.एम बीरबल ने बताया कि अगरपुरा निवासी नानूराम बलाई ने मामला दर्ज कराया कि बामनियावास निवासी रतन बावरिया ने उसे कछुआ बेचने के धंधे का लालच दिया और कहा कि सात लाख रुपए में जिंदा कछुआ खरीदकर इसे चालीस लाख में बेच देंगे। रतन व राकेश बावरिया ने उससे ढाई लाख रुपए लाने को कहा। नानूराम 13 सितम्बर को हिंगोनियां के खाल्डे में रतन व राकेश से मिला। इसी बीच एक व्यक्ति आया, जिसके पास थैले में कछुआ था।


रतन ने कहा कि सात लाख में सौदा तय हुआ है, जिस पर नानूराम से ढाई लाख रुपए लेकर उन्होंने थैला ले लिया। फिर कहा कि 40 लाख में कछुआ खरीदने वाली पार्टी जयपुर रोड स्थित नयाबास गांव के पास इंतजार कर रही है। इस पर तीनों नयाबास पहुंचे और फर्जी खरीदार को थैला दिया। उसने जब थैला खोल कर देखा तो कहा कि कछुआ मरा हुआ है, इसे नहीं लेंगे और वे चले गए।


जिंदा कछुए के लिए फिर मांगे पैसे
इस पर रतन व राकेश ने कहा कि कछुआ हुआ है, इसलिए दूसरा कछुआ खरीदना पड़ेगा। नानूराम ने उनसे कहा तो वे बहाना बनाने लगे। उन्होंने नानूराम से और रुपए लाने की मांग की। नानूराम पैसे का इंतजाम करने गया और लोगों को बताया। इस पर लोगों ने कहा कि बावरिया गिरोह कछुआ बेचने के नाम पर ठगी करता है। इस पर उसने रविवार को थाने में मामला दर्ज कराया।


इधर, जिंदा कछुए के साथ पकड़े चार जने
दूदू. स्थानीय पुलिस ने शनिवार रात गश्त के दौरान मालपुरा रोड पर दो जनों को एक जिंदा कछुए के साथ पकड़ा। थाना प्रभारी जयप्रकाश बेनीवाल ने बताया कि पुलिस पुलिया के पास गश्त कर रही थी। इस दौरान एक पिकअप गाड़ी के साथ-साथ स्कार्पियो गाड़ी भी मालपुरा रोड की तरफ से आती दिखाई दी। दोनों वाहनों में चार जने बैठे हुए थे, उन्होनें शराब पी रखी थी। पिकअप की तलाशी ली तो उसमें जीवित कछुआ मिला।


इस पर पुलिस ने शराब पीकर वाहन चलाने के आरोप में पिकअप सवार बाईजी का तालाब थाना मीठड़ी जिला नागौर निवासी बनवारी बागरिया व देवगांव थाना केकड़ी जिला अजमेर निवासी रामनिवास बागरिया तथा स्कार्पियो सवार सुरेरा थाना दांतारामगढ़ निवासी सुरेश जाट व पप्पू जाट को गिरफ्तार कर दोनों वाहनों को जब्त किया। पुलिस ने बताया कि चारों युवक कछुए का सौदा करने की फिराक में घूम रहे थे। पुलिस ने पिकअप सवार बनवारी व रामनिवास बागरिया को कछुए के साथ वन विभाग को सुपुर्द कर दिया गया। वन विभाग के फोरेस्टर बालूराम सारण ने बताया कि दोनों के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत कार्यवाही करते हुए 21 हजार का जुर्माना किया गया।