स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

थानाधिकारी ने दिया जवाब, क्यों बुरी है पुलिस की दोस्ती व दुश्मनी

Ramakant Dadhich

Publish: Aug 22, 2019 08:30 AM | Updated: Aug 21, 2019 23:39 PM

Bagru

जनता पुलिस में राम, रावण व हनुमान का रूप देखती है, यह जनता पर निर्भर है कि वह पुलिस को किस रूप में देखे।

दौलतपुरा. जनता पुलिस में राम, रावण व हनुमान का रूप देखती है, यह जनता पर निर्भर है कि वह पुलिस को किस रूप में देखे। यह बात बुधवार को बगवाड़ा के एक निजी संस्थान में हरमाड़ा थाना प्रभारी रमेश सैनी ने ‘हमें पहचानिए एक संवाद’ कार्यक्रम में एक छात्र के सवाल ‘पुलिस को लोग गलत क्यों मानते है’ का जवाब देते हुए कही। सैनी ने कहा कि जनता फिल्मों में देखकर ही पुलिस को गलत मानने लगती है। इसलिए आम हमारे पास आइए और हमें जानिए। पुलिस समाज का अभिन्न अंग है और समाज का अस्तित्व पुलिस के बिना संभव नहीं है। इस दौरान विद्यार्थी ने पूछा कि पुलिस की दोस्ती व दुश्मनी दोनों बुरी कैसे है। इस पर थाना प्रभारी सैनी ने कहा कि अगर मेरा कोई दोस्त है और वह अपराध करता है तो उसे गिरफ्तार कर लंूगा, इसमें दोस्ती काम नहीं आएगी। इसलिए पुलिस की दोस्ती और दुश्मनी दोनों ही अच्छी नहीं है।
विद्यार्थी गुंजन प्रजापत पूछा कि पुलिस हमेशा नेताओं के दबाव में ही काम क्यों करती है, इस पर सैनी ने जवाब दिया कि ऐसा नहीं होता है यह सिर्फ फिल्मों में देखने को मिलता है। इस दौरान छात्रा पूजा ने पूछा कि ट्रैफिक पुलिस को 50 रुपए देकर हम आसानी से छूट जाते हैं, इनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की जाती है, इस पर सैनी ने कहा कि रिश्वत लेना व देना दोनों ही अपराध है। रिश्वत लेने वाले से ज्यादा देने वाला अपराधी है। इस अवसर पर विद्यार्थियों ने सामूहिक प्रश्न पूछा कि इन दिनों बच्चों के अपरहण हो रहे हैं इस पर पुलिस कार्रवाई क्यों नही कर रही है। सैनी ने जवाब देते हुए कहा कि अभी तक हरमाड़ा थाने में ऐेसा कोई मामला नहीं आया है। यह केवल अफवाह है। इस दौरान सैनी ने सीआरपीसी व आईपीसी की प्रमुख धाराओं के बारे में छात्र-छात्राओं को जानकारी दी।

एक घंटा हड़ताल, तो लुट जाए जौहरी बाजार
इस दौरान संवाद करते हुए थाना प्रभारी रमेश सैनी कहा कि हर विभाग के कर्मचारी समय-समय पर हड़ताल करते रहते हैं, लेकिन पुलिस कभी भी हड़ताल नहीं करती है। पुलिस के बिना समाज नहीं चल सकता है। कल्पना कीजिए अगर पुलिस एक घंटे के लिए हड़ताल पर चली जाए तो दावा करता हूं कि जौहरी बाजार लुट जाए। इसलिए पुलिस जनता की सेवा में तैयार रहती है।