स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डिग्गी पदयात्रियों की सुरक्षा के लिए इस बार खास इंतजाम

Kashyap Avasthi

Publish: Aug 06, 2019 23:20 PM | Updated: Aug 06, 2019 23:20 PM

Bagru

- पदयात्रा रूट में एनिकटों पर तैनात रहेंगे जवान
- जयकारों के साथ डिग्गी कल्याणजी रवाना हुए पदयात्री
- जयपुर-भीलवाड़ा मेगा हाइवे पर लगी श्रद्धालुओं की कतार

जयपुर. छोटी काशी से रवाना हुई कल्याणधणी (Diggi kalyanji) की पदयात्रा में इस बार पदयात्रियों की सुरक्षा के लिए पुलिस के जवान तैनात रहेंगे वहीं पिछले वर्षों में बारिश (rain in jaipur) के दौरान रास्ते में पडऩे वाले एनिकटों में डूबने से हुए हादसों को ध्यान में रखते हुए अबकी बार विशेष सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। रास्ते के सभी एनिकटों, छोटे तालाबों व बांधों (dem) पर जवान निगरानी रखेंगे।


फागी उपखंड अधिकारी डॉ.राकेश कुमार मीणा की अध्यक्षता में डिग्गी पदयात्रा को लेकर मंगलवार को हुई बैठक में भंडारे जयपुर से आने वाली सड़क के बायीं ओर लगाने के निर्देश दिए गए। सहायक अभियन्ता को बिजली की आपूर्ति सुचारू रखने के लिए पाबंद किया गया। थानाधिकारी ज्ञानेन्द्र सिंह ने बताया कि मांसी व बाण्डी नदी के एनिकटों में दल-दल होने के कारण पदयात्रियों को यहां स्नान करने से रोकने के लिए जवान तैनात किए गए हैं।


वाहनों को किया डायवर्ट
पदयात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए मुहाना थाना पुलिस ने मेगा हाइवे के पंवालिया मोड़ से वाहनों को (diversion) डायवर्ट करते हुए पंवालिया, कपूरवाला व रिंग रोड़ होते हुए निकाला। फागी थानाधिकारी ज्ञानेन्द्रसिंह ने बताया कि पदयात्रियों की सुरक्षा व व्यवस्था के लिए पुलिस के 130 जवान (police) तैनात किए गए हैं। फागी उपखण्ड अधिकारी राकेश कुमार मीणा ने भी पदयात्रियों की सुरक्षा के इंतजामों पर निगरानी रखी।


सिर पर छाता-हाथ में थैला, निकला रेला
हाथ में थैला, सिर पर छाता और मुंह पर कल्याणधणी के जयकारों के साथ श्रद्धा का सैलाब, यह नजारा था मंगलवार को जयपुर-भीलवाड़ा मेगा हाइवे स्थित रेनवाल मांजी से निकली पदयात्रा का । डिग्गीपुरी कल्याणजी पदयात्रा संघ के तत्वावधान में जयपुर के ताड़केश्वर मंदिर से शुरू हई पदयात्रा में शाम तक हजारों की संख्या में श्रद्धालु रेनवाल मांजी पहुंचे। कल्याणधणी के जयकारों से कस्बा गूंज उठा। सांगानेर के मुहाना मोड से लेकर रेनवाल मांजी तक पदयात्रियों की कतार लगी रही।