स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मकान में भरा बारिश का पानी, निकासी को धरने पर बैठा परिवार

Narottam Sharma

Publish: Sep 11, 2019 18:19 PM | Updated: Sep 11, 2019 18:19 PM

Bagru

Sambharlake Municipality :— नगर पालिका प्रशासन का कहना है कि जिस भूमि पर मकान बना हुआ है उस भूमि को लेकर दो अन्य पक्षों में आपस में न्यायालय में वाद चल रहा है। जिससे पालिका वहां पर कुछ नहीं कर सकती है। वहीं स्थानीय निवासी ग्रामीण भी समस्या समाधान (Rain water filled the house) के लिए परिजनों के साथ धरने (family sitting on strike) पर बैठ गया है।

सांभरलेक. कस्बे में 22 गोदाम के पास रहने वाले एक जने के घर में लम्बे समय से बरसात का पानी भरा हुआ है। इस कारण परिजन घर से निकल भी नहीं पा रहे हैं। बहुत ही मुश्किल से कई जतन कर उन्हें बाहर निकलना पड़ता है। साथ ही इससे रोजमर्रा के कामकाज भी बाधित हो रहे हैं। बुधवार को इस समस्या के समाधान के लिए पीडि़त गोपाल वर्मा अपने परिजनों के साथ पालिका में धरने पर बैठ गया। पीडि़त का कहना है कि कई बार शिकायत की, फिर भी समस्या का समाधान नहीं हो रहा है। इस पर पालिका में धरने पर बैठ गए। दूसरी ओर पालिका प्रशासन का कहना है कि जिस भूमि पर गोपाल का मकान बना हुआ है उस भूमि को लेकर दो अन्य पक्षों में आपस में न्यायालय में वाद चल रहा है। जिससे पालिका वहां पर कुछ नहीं कर सकती है। वहीं पीडि़त ने बताया कि बरसात का मौसम शुरू होने के साथ ही उसके घर में दो से तीन फीट पानी भर गया (Rain water filled the house) था। जिससे घर में बने टायलेट व बाथरूम गिरने के कगार पर आ गए हैं और इस मामले को लेकर कई बार प्रशासन से शिकायत की फिर भी सुनवाई नहीं हुई। उन्होंने बताया कि इस मामले को लेकर सांभर नगर पालिका, उपजिला कलक्टर (Upjila Collector), जिला कलक्टर (District Collector), ग्रामीण एसपी (Rural SP) सहित अन्य कई उच्च अधिकारियों को शिकायत की, लेकिन कोई समाधान नहीं निकल पाया।

जिम्मेदार बोले...

जिस जमीन पर उक्त व्यक्ति ने मकान बनाया हुआ है उस भूमि का अन्य दो पक्षों में वाद न्यायालय में लम्बित है, तथा इसके मकान के आगे की भूमि अन्य किसी की है, जिस भूमि पर न्यायालय में वाद चल रहा है उस पर पालिका कोई कार्रवाई नहीं कर सकती है।
- विनोद सांभरिया, अध्यक्ष, नगर पालिका मण्डल सांभरलेक