स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Action : व्यापारी ने नकली बताकर लौटाया 90 लाख का घी, पुलिस ने पकड़ा

Kashyap Avasthi

Publish: Oct 15, 2019 23:43 PM | Updated: Oct 15, 2019 23:43 PM

Bagru

- घी के 1200 पीपे बरामद, जांच में जुटी पुलिस
- स्वास्थ्य विभाग (Heath departmenet) की टीम ने लिए सैंपल

जयपुर. दीपावली (Deepawali) पर नकली मावा बनाने वालों के साथ नकली देशी घी (Ghee) बनाने वाले गिरोह भी सक्रिय हो गए हैं। जयपुर ग्रामीण पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर दूदू में मंगलवार सुबह नाकाबंदी के दौरान नकली घी से भरे ट्रक को पकड़ा। ट्रक में ब्रांडेड कंपनी के नाम के घी से भरे 1200 पीपे रखे थे।


जयपुर ग्रामीण एसपी शंकरदत्त शर्मा ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली कि जोधपुर से एक ट्रक में नकली घी धौलपुर ले जाया जा रहा है। इस पर दूदू में हाइवे पर नाकाबंदी कराई और ट्रक को रुकवाया। जिसमें चालक भूपेन्द्र गिरी व खलासी रवि गिरी से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि धौलपुर से यह घी लेकर जोधपुर सप्लाई करने गए थे। लेकिन जोधपुर में जिस व्यापारी को घी देना था, उसने चेक करने के बाद इसे घी नकली होना बताया और लेने से इनकार कर दिया। अब घी को वापस धौलपुर ले जा रहे थे।

एसपी ने बताया कि घी की जांच के लिए एफएसएल और फूड इंस्पेक्टर सेम्पल को बुलाकर सैंपल लिए हैं।उन्होंने बताया कि ट्रक में भरा घी नकली होने की आशंका है। जांच के स्थिति स्पष्ट होगी। घी की कीमत करीब 90 लाख रुपए बताई जा रही है।

घी फैक्ट्री के लोग भी पहुंचे
उधर, ट्रक जब्त करने के बाद घी बनाने वाली फैक्ट्री से जुड़े लोग भी मौके पर पहुंच गए और पुलिस कार्रवाई को गलत बताते हुए घी को असली बताने का दावा करने लगे। उधर, खाद्य विभाग की टीम भी सैंपल के लिए मौके पर पहुंची। लैब में जांच के बाद घी की गुणवत्ता का पता चल सकेगा।


सोमवार रात की थी नाकाबंदी
पुलिस ने विश्वसनीय सूत्रों से सूचना मिलने पर जयपुर ग्रामीण पुलिस को नकली देशी घी की खेप आने की सूचना दी। जिस पर पुलिस ने सोमवार रात ही नाकाबंदी करा दी थी। इससे पहले भी पुलिस को ऐसी ही सूचना पर इस ट्रक को पकडऩे के प्रयास कर रही थी। जब व्यापारी ने इसे नकली बताकर लौटा दिया तो पुलिस ने इसे धौलपुर जाते समय नाकाबंदी में पकड़ लिया।


रोज ले रहे हैं सैंपल
जयपुर द्वितीय सीएमएचओ डॉ. हंसराज बड़ालिया ने बताया कि दिवाली के त्योहारी सीजन को देखते हुए खाद्य सामग्री के सैंपल लिए जा रहे हैं। मिलावट के खिलाफ जिलेभर में अभियान चलाया जा रहा है।