स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लाखों की लागत से सवा साल पहले बिछाई पाइप लाइन हो गई ‘दफन’

Ramakant Dadhich

Publish: Sep 17, 2019 00:06 AM | Updated: Sep 17, 2019 00:06 AM

Bagru

सवा साल पहले बिछाई गई लाखों रुपए की पाइप लाइन का भुगतान उठा लिए जाने के बावजूद उसका मिलान अब तक नहीं होने से जनता को पानी नसीब नहीं हो रहा है।

चौमूं. जलदाय विभाग की ओर से वार्ड-4 में सवा साल पहले बिछाई गई लाखों रुपए की पाइप लाइन का भुगतान उठा लिए जाने के बावजूद उसका मिलान अब तक नहीं होने से जनता को पानी नसीब नहीं हो रहा है। जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते पाइप लाइन दफन सी हो गई है। जानकार सूत्रों के अनुसार नगरपालिका के अधीन संचालित जलदाय विभाग की ओर से सवा साल पहले वार्ड 4 में अहीरों की ढाणी समेत आस-पास क्षेत्र में नलों में पानी नहीं आने से पेयजल समस्या बनी हुई थी। इसे लेकर वार्ड पार्षद और स्थानीय लोग संबंधित अधिकारियों एवं कार्मिकों से समस्या का निस्तारण करने की मांग करते आ रहे थे। वार्डवासियों की शिकायत थी कि वार्ड में दो दशक पुरानी पाइपलाइन बिछी हुई थी, जिसमें कभी पेड़ों की जड़ आने तो कभी लीकेज होने के कारण नलों में नाममात्र का पानी आता था। इसे लेकर पालिका प्रशासन ने समस्या का स्थायी समाधान करने के लिए जलदाय विभाग के अधिकारियों के साथ मिलकर चार इंच मोटी पाइप लाइन बिछवाने का निर्णय किया।साथ ही इसके टैंडर भी जारी किए।


मिलान नहीं किया
सूत्रों के अनुसार ठेकेदार ने कार्य आदेश मिलने के बाद वार्ड-4 में शहीद बाबा के स्थान से चक्की (गरेड़ों की ढाणी मोड़) तक चार इंच मोटी पाइप लाइन बिछा दी। इसमें लाखों रुपए की लागत आई, लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों एवं कार्मिकों की अनदेखी का नतीजा रहा कि इस पाइप लाइन का मिलान न तो बोरिंग से किया गया और न ही उच्च जलाशय से किया गया, जिसके चलते अब तक पाइप लाइन बिछाने का मकसद पूरा नहीं हो गया। पाइप लाइन मिट्टी में यूं ही दबी पड़ी है। इसके बावजूद ठेकेदार को पाइप लाइन बिछाने का भुगतान कर दिया गया।


पाइप लाइन कार्य अधूरा छोड़ा
आश्चर्य की बात ये है कि सवा साल पहले बिछाई गई पाइप लाइन को तो चालू नहीं किया। बल्कि एक और नई पाइप लाइन दो महीने पहले अहीरों की ढाणी से गरेड़ों की ढाणी तक बिछा दी, लेकिन इसका भी मिलान नहीं किया गया। इसके मिलान के लिए करीब 15-20 पाइपों की और जरूरत थी, लेकिन ठेकेदार ने इसे पूरा नहीं किया। वार्ड में दो-दो बार पाइप लाइन बिछाने के बाद पाइप लाइन का मिलान नहीं करने से गरेड़ों की ढाणी की पेयजल समस्या दूर नहीं हो पा रही है। हालांकि अहीरों की ढाणी की समस्या काफी हद तक दूर हो गई है।