स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अब कृषि क्षेत्र में बनाएं कॅरियर, युवाओं—विद्यार्थियों के लिए है बेहतरीन मौका...

Narottam Sharma

Publish: Jul 18, 2019 08:00 AM | Updated: Jul 18, 2019 00:06 AM

Bagru

Agri Business Incubation : विद्यार्थियों को सिखा रहे नवाचार, कृषि में नवाचार (Innovation in agriculture) व आधुनिक विधियों से शुरू कर सकते हैं (Startup can start) स्टार्टअप। प्रशिक्षण के जरिए बता रहे खेती की वैज्ञानिक पद्धतियां।

जोबनेर. अब विद्यार्थियों को बेरोजगारी का सामना नहीं करना पड़ेगा, जो विद्यार्थी कुछ नया करना चाहते हैं उनके लिए असीम संभावनाएं हैं। रोजगार से जुड़ी कुछ ऐसी ही सुविधा जयपुर जिले में जोबनेर स्थित कृषि विश्वविद्यालय (Agricultural University located in Jobner) उपलब्ध करा रहा है। यहां युवाओं को कृषि क्षेत्र में बेहतर रोजगार के तरीके बताने के साथ उन्हें प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। साथ ही बेरोजगारों को कृषि क्षेत्र में नवाचार करते हुए स्वयं का काम शुरू करने के लिए आर्थिक सहायता (Financial assistance will also be given) भी दी जाएगी।

ऐसे शुरू कर सकते हैं स्वरोजगार
श्री कर्ण नरेन्द्र कृषि व्यवसाय प्रबन्धन महाविद्यालय परिसर में आयोजित कार्यशाला में युवाओं के साथ विद्यार्थियों को ज्ञान व कौशल में विभेद समझाया गया। इस दौरान उन्हें बताया गया कि किस प्रकार स्वरोजगार के जरिए स्वयं के पैरों पर खड़ा हुआ जा सकता है।

युवाओं के पास ऊर्जा का भंडार
कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय अधिष्ठाता डॉ. ए.के. गुप्ता ने की। उन्होंने बताया कि वर्तमान में विश्व में 16 प्रतिशत युवा हैं जिनके पास ज्ञान व असीम ऊर्जा है जिसे सकारात्मक दिशा देकर सृजनात्मक कार्य करने की महती आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि युवाओं को सही मार्गदर्शन व उद्यमिता सम्बन्धी प्रशिक्षण देने की विशेष जरूरत है। सरकारी स्तर पर भी कौशल विकास के लिए अनेक योजनाए हैं। कृषि क्षेत्र में विशेषत: कौशल विकास व स्वरोजगार की प्रचुर सम्भावनाएं हैं।

यह है योजना
यदि विद्यार्थियों के पास नवाचार हैं और अभिनव प्रयोग करते हैं तो वे महाविद्यालय में नवस्थापित 'एग्री बिजनेस इन्क्यूबेशन' (Agri Business Incubation) के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए कोई औपचारिक उपाधि की भी जरूरत नहीं है। चयनित विद्यार्थियों को नि:शुल्क प्रशिक्षण और उद्यम स्थापित करने के लिए पांच लाख रुपए तक की सहायता भी दी जाएगी। एग्री बिजनेस इन्क्यूबेशन के अन्तर्गत युवाओं को कृषि की आधुनिक विधियों के साथ आर्गेनिक खेती (Organic farming) करने की वैज्ञानिक विधियां भी बताई जा रही हैं, इससे वे बेहतर रूप से स्वरोजगार की शुरुआत कर सकें। यदि कोई युवा इन्हें बेहतर तरीके से सीख ले तो स्टार्टअप तक शुरू कर सकता है।