स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पालिकाध्यक्ष हुई सख्त, कर्मचारियों की होगी पोलपट्टी बंद

Ramakant Dadhich

Publish: Oct 15, 2019 23:34 PM | Updated: Oct 15, 2019 23:34 PM

Bagru

एक नवम्बर से हर हालत में सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों की हाजिरी आवश्यक रूप से पालिका कार्यालय में लगी बायोमेट्रिक मशीन से होगी

चौमूं. भले ही स्थानीय निकाय विभाग के आला अधिकारी नहीं चेते हों, लेकिन 25 दिन बाद नगरपालिका अध्यक्ष ने कार्यवाहक अधिशासी अधिकारी को लिखित में आदेश दिए हैं कि एक नवम्बर से हर हालत में सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों की हाजिरी आवश्यक रूप से पालिका कार्यालय में लगी बायोमेट्रिक मशीन से होगी। इसके बिना किसी भी कार्मिक का वेतन तैयार नहीं किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि राजस्थान पत्रिका में 21 सितम्बर 2019 को ‘बायोमेट्रिक मशीन को दिखा रहे अंगूठा’ शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था कि वर्ष 2016 में नगरपालिका प्रशासन ने कार्मिकों एवं अधिकारियों को ड्यूटी के प्रति पाबंद करने एवं कार्यालय की व्यवस्था दुरुस्त करने के मकसद से हजारों रुपए की राशि खर्च करके बायोमेट्रिक मशीन लगाई थी। कुछ महीनों तक तत्कालीन अधिकारियों एवं कार्मिकों ने इसकी पालना की, लेकिन जैसे-जैसे अधिशासी अधिकारी बदलते गए। वैसे-वैसे अधिकतर कर्मचारी व अधिकारी इसकी अनदेखी करने लगे। जिसके चलते स्थिति यह हो गई कि गिनती के लोग बायोमेट्रिक मशीन पर हाजिरी करते आ रहे हैं, जिससे अधिकतर कार्मिकों का आना उनकी मर्जी पर निर्भर हो गया। क्योंकि कार्मिकों व अधिकारियों का वेतन भुगतान भी बायोमेट्रिक मशीन के बजाय रजिस्टर पर किए जाने वाले हस्ताक्षरों से किया जाता रहा है। सूत्रों की मानें तो पिछले कई ईओ ने तो बायोमेट्रिक मशीन से हाजिरी ही नहीं की। इस खबर के प्रकाशित होने के बाद कुछ पार्षदों एवं विभिन्न संगठनों ने भी बायोमेट्रिक मशीन से हाजिरी करने पर जोर दिया, लेकिन उच्चाधिकारियों ने इसे अब तक गंभीरता से नहीं लिया, लेकिन मंगलवार को नगरपालिका अध्यक्ष ने इस मामले को गंभीरता से लिया।

पालिकाध्यक्ष ने दिए आदेश
पालिकाध्यक्ष ने अधिशासी अधिकारी चौमूं को लिखित में आदेश दिए हैं कि पालिकाकर्मियों की उपस्थिति बायोमेट्रिक मशीन से करने के आदेश कई बार दिए गए हैं, लेकिन उपस्थिति मशीन से नहीं की गई। इसे लेकर 21 सितम्बर 2019 को राजस्थान पत्रिका में प्रकाशित की गई थी। इतना ही नहीं, खुद विभाग की क्षेत्रीय उप निदेशक ने भी माना है कि यदि पालिका में बायोमेट्रिक मशीन है तो हाजिरी उसी से होनी चाहिए। पालिकाध्यक्ष ने कर्मचारियों को पाबंद करने एवं नवम्बर, 2019 का वेतन भुगतान बायोमेट्रिक मशीन की हाजिरी से करवाने के आदेश जारी किए हैं।