स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

LOKADALAT : लोक अदालत में सहमति से सुलझे वर्षों पुराने विवाद

Kashyap Avasthi

Publish: Jul 13, 2019 23:05 PM | Updated: Jul 13, 2019 23:05 PM

Bagru

प्रकरणों का राजीनामे से निस्तारण


दूदू. कस्बे के न्यायालय में शनिवार को अपर जिला न्यायाधीश शिल्पा समीर एवं एसीजेएम मुकेश कुमार सोनी की अध्यक्षता में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन हुआ। इस दौरान एडीजे न्यायालय (court) में 66 प्रकरणों का राजीनामे के आधार पर निस्तारण हुआ वहीं तीन करोड़ उनसठ हजार का अवार्ड पारित किया गया। साथ ही अपर मुख्य न्यायिक मजिस्टे्रट न्यायालय में 59 प्रकरणों का राजीनामे के आधार पर निस्तारण किया गया।
लोक अदालत की बैंच में अधिवक्ता मगनलाल शर्मा व निरंजन पारीक सदस्य के रूप में मौजूद रहे। इस दौरान अभिभाषक संघ के अध्यक्ष ताज मोहम्मद रंगरेज, अधिवक्त कैलाश चन्द जाट, प्रमोद जैन, नारायण सहाय पारीक, राजेन्द्र सिंह मंडावरी, इमरान खान मंसूरी, नानूराम धाभाई, सुपेन्द्र शर्मा सहित अनेक अधिवक्ता, बैंकों के अधिकारी व बीमा कंपनी के अधिकारी भी मौजूद रहे।


इधर, 155 मामलों का निस्तारण
सांभरलेक. तालुका विधिक सेवा समिति सांभर के तत्वावधान में शनिवार को लंबित प्रकरणों के निस्तारण के लिए लोक अदालत का आयोजन न्यायाधीश मधुसूदन राय की अध्यक्षता में किया गया। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट इंदू उज्जवल, न्यायिक मजिस्ट्रेट सांभर गार्गी चौधरी ने राजीनामे से 155 मामलों का निस्तारण कर एक करोड़ पैसठ लाख तैतीस हजार चार सौ रुपए के अवार्ड पारित किए।


तालुका विधि सेवा समिति के सचिव रवि कुमार जांगिड़ ने बताया कि इस दौरान बैंच सदस्य लक्ष्मण सिंह, पवन कुमावत, अताउल्लाह खां, प्रभुदयाल कुमावत, नीरज गुप्ता, जान मोहम्मद, सोहनलाल मीणा, अशोक कुमार, रमेश लखेरा, भागचंद, विजेश तंवर, वेणीप्रसाद परेवा, अधिवक्ता लालचंद कुमावत, तेजपाल प्रजापत आदि मौजूद रहे।

 

चेहरे खिल उठे
फागी. जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार सिविल न्यायाधीश एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट व अतिरिक्त सिविल न्यायाधीश एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट कोर्ट फागी में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। जिसमें कुल 405 प्रकरणों का निस्तारण किया गया। न्यायिक मजिस्ट्रेट अजय कुमार शर्मा ने राजीनामे के आधार पर निस्तारण कराए। मामलों का निस्तारण होने पर ग्रामीणों के चेहरे खिल उठे।