स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लो! फिर आ गया जरख, अब बच्चा भी साथ

Kashyap Avasthi

Publish: Aug 19, 2019 23:41 PM | Updated: Aug 19, 2019 23:41 PM

Bagru

- वनपाल को मिले मादा जरख के पगमार्क (Footprint)
- रेस्क्यू (rescue team)टीम व पुलिसकर्मी पहुंचे, तलाश शुरू

जयपुर. अब जिले के बगरू इलाके में जरख आने से लोगों में दहशत फैल गई है। क्षेत्र के लोहरवाड़ा सहित चिरोटा, हसमपुरा, लाखावास व भांकरोटा खुर्द में रविवार शाम व सोमवार सुबह लोगों को खेतों में जरख के दिखने से अफरा-तफर मच गई। गौरतलब है कि आठ दिन पूर्व कांसेल में जरख ने महिला सहित पांच जनों को हमला (attuck) कर घायल कर दिया था। जिसे वन विभाग (forest Team) की टीम तलाश रही है लेकिन अब तक पकड़ में नहीं आया। अब एक मादा जरख दिखी है और उसके साथ शावक भी है। इसकी पुष्टि पगमार्क के आधार पर हुई है।


हसमपुरा निवासी महिला धापू देवी ने बताया कि सोमवार सुबह करीब 8:30 बजे वह खेत में चारा लेने गई थी कि अचानक तेज गुर्राहट की आवाज के साथ सामने से भागता जरख नजर आया। इस पर वह खेत में छिप गई और उसके निकलने के बाद शोर मचाया। इसके बाद ग्रामीण हाथों में लाठी-सरिए लेकर जरख की तलाशी (searching ) में जुट गए और पुलिस व वनविभाग के कर्मचारियों को सूचना दी।

 

ग्रामीणों को खेतों में जगह-जगह पगमार्क भी मिले हैं। इस दौरान जिला वन समिति सदस्य व जिला परिषद सदस्य गोपाललाल मीणा व राजेंद्र मीणा सहित वनपाल मोरपालसिंह मीणा मौके पर पहुंचे और पगमार्क देखे। जिस पर जरख के होने की पुष्टि की गई। इसके बाद लोहरवाड़ा में भी जरख को देखा गया।


10 किलोमीटर (forest search) तलाशा, नहीं मिला
वनपाल के साथ ग्रामीणों ने करीब दस किलोमीटर के क्षेत्र में जरख की तलाश की लेकिन वह नहीं मिला। इसके बाद वन विभाग के उच्चाधिकारियों को सूचना दी गई। वनपाल मोरपाल सिंह ने बताया कि पगमार्क मादा जरख के हैं और उसके साथ जरख का शावक भी है। क्षेत्रीय वन अधिकारी जनेश्वर चौधरी व रेस्क्यू टीम के सौंदर्य कुमार पारीक को पगमार्क भेजे जिसमें जरख की पुष्टि हुई।


ग्रामीणों में दहशत का माहौल
जैसे ही हसमपुरा में जरख की सूचना ग्रामीणों (villagers) को लगी तो बड़ी संख्या में ग्रामीण अपने खेतों पर पहुंचे और वहां काम कर रहे लोगों को सावधान किया। इसके बाद आसपास के गांवों में लोग अपने घरों को लौट गए। लोगों ने बताया कि कांसेल में हुए हमले के बाद भी वन विभाग की टीम जरख को नहीं पकड़ पाई है। वहीं लोग दहशत में हैं।