स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Illegal cut: हाइवेे पर कट से कट न जाए जीवन की डोर

Teekam Saini

Publish: Sep 03, 2019 23:17 PM | Updated: Sep 03, 2019 23:17 PM

Bagru

Highway conditions हाइवे के हालात खराब, जगह-जगह बने हुए है कट

Illegal cut: हाइवेे पर कट से कट न जाए जीवन की डोर
- Highway conditions हाइवे के हालात खराब, जगह-जगह बने हुए है कट
दौलतपुरा (Highway conditions). स्थानीय लोगों की सुविधा के लिए एक्सप्रेस हाइवे पर जगह-जगह कट (Illegal cut) बनाए गए हैं। ताकि स्थानीय लोग हाइवे पर चढ़कर अपने गंतव्य तक पहुंच सके। लेकिन कट के कारण हादसों की आशंका (Fear of accidents) बनी रहती है। पिछले एक साल के दौरान एक्सप्रेस हाइवे पर हरमाड़ा, विश्वकर्मा, चंदवाजी थाना क्षेत्र में दर्जनों मौतें हो चुकी है। इसके बावजूद सम्बन्धित विभागों के अधिकारी व कर्मचारी इस मामले की अनदेखी कर रहे हैं। जानकारी के अनुसार एक्सप्रेस हाइवे (Highway conditions) पर पीसीईपीएल कंपनी की ओर से जगह-जगह हाइवे पर चढऩे के लिए सर्विस रोड को हाइवे से जोड़ा है। इसके चलते इन कटों से कब हाइवे पर वाहन चढ़ जाते हैं, इसकी जानकारी हाइवे पर सरपट दौड़ते हुए अन्य वाहन चालकों को नहीं लग पाती, जिससे दुर्घटना होने की स्थिति बन जाती है। गंभीर बात यह है कि कई स्थानों पर होटल व ढाबा मालिकों ने भी अवैध कट (Illegal cut) बनाने के लिए क्रॉस बेरियर तक को हटा दिए। लेकिन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होती है।
दर्जनों हादसे, जिम्मेदार मौन
सुगम और सुरक्षित समझे जाने वाले जयपुर एक्सप्रेस हाइवे (Highway conditions) पर विश्वकर्मा, हरमाड़ा,चंदवाजी, मनोहरपुर थाना क्षेत्र में अब तक दर्जनों हादसे हो चुके हैं जिनमें कई लोगों की जान जा चुकी है तथा कई लोग घायल (Fear of accidents) हो गए हैं। लेकिन इस ओर एनएचएआई के अधिकारी कोई ध्यान (Responsible silence) नहीं दे रहे, ऐसे में हादसे लगातार बढ़ रहे हैं। एक्सप्रेस हाइवे पर जगह-जगह कट बने हुए हैं, जिन पर कई बार हादसे हो चुके हैं।
साइन बोर्ड लगे तो मिले राहत
अगर हाइवे पर साइन बोर्ड (sign board), रिफ्लेक्टर लगाएं जाएं तो हादसों में कमी आ सकती है। वहीं दूर से ही हाइवे पर चलने वाले वाहन चालकों को जानकारी हो सकती है कि यहां सर्विस रोड से वाहन चढ़ सकता है। स्थानीय निवासी कैलाश इन्दौरा, बद्रीनारायण बागड़ा ने बताया कि इन कटों के चलते कई हादसे हो गए हैं। शीघ्र ही साइन बोर्ड नहीं लगाए तो धरना प्रदर्शन किया जाएगा।