स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Accident : डंपर ने देवर-भाभी को कुचला, देवर की मौत

Kashyap Avasthi

Publish: Jul 20, 2019 23:02 PM | Updated: Jul 20, 2019 23:02 PM

Bagru

रेनवाल-मांजी टोल के पास हादसा
- महिला गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती
- रेनवाल मांजी से भाभी को दवा दिलवाकर लौट रहा था घर

रेनवाल मांजी. जयपुर-भीलवाडा मेगा हाइवे स्थित रेनवाल मांजी टोल प्लाजा के पास शनिवार को डंपर यमदूत बनकर आया और स्कूटी सवार महिला सहित दो जनों को कुचल दिया। हादसे में स्कूटी चालक की मौके पर ही मौत हो गई जबकि महिला गंभीर घायल हो गई। उधर, घटना के बाद डंपर चालक वाहन छोड़कर मौके से फरार हो गया।


जानकारी के अनुसार हरिनारायण बैरवा निवासी देवनगर, हरसूलिया अपनी भाभी कानी देवी को रेनवाल मांजी से दवा दिलवाकर दोपहर करीब ढाई बजे वापस गांव लौट रहा था। इसी दौरान टोल प्लाजा के पास रेनवाल मांजी से फागी की ओर जा रहे डंपर ने स्कूटी को पीछे से टक्कर मार दी और दोनों को कुचल दिया। हादसे में स्कूटी चालक हरिनारायण बैरवा (45) पुत्र कल्याण बैरवा निवासी देवनगर, हरसूलिया की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि कानी देवी गंभीर रूप से घायल हो गई। एंबुलेंस से घायल महिला को जयपुरिया अस्पताल में भर्ती करवाया गया।


घसीटता ले गया डंपर
ग्रामीणों ने बताया कि डंपर टक्कर मारने के बाद स्कूटी चालक को करीब 30 फीट तक घसीटता ले गया। स्कूटी चालक का सिर कुचलने से उसने मौके पर दम तोड़ दिया जबकि महिला के पैर फ्रेक्चर हो गए।


बजरी भरने जा रहा था डंपर
रेनवाल मांजी, फागी व माधोराजपुरा होकर बजरी का अवैध परिवहन धड़ल्ले से चल रहा है। लोगों ने बताया कि डंपर चालक टोल बचाने के चक्कर में रेनवाल मांजी के रास्ते माधोराजपुरा होते हुए नदी में बजरी भरने जा रहा था। इसी दौरान स्कूटी सवार को चपेट में ले लिया। हादसे के बाद मौके पर भीड़ जमा हो गई और बजरी परिवहन करने वाले वाहनों पर कार्रवाई नहीं होने पर रोष जताया।


बेखौफ हैं बजरी माफिया
घटनास्थल पर मौजूद लोगों ने बताया कि पुलिस व खनिज विभाग की लापरवाही के चलते बजरी माफिया बेखौफ हो गए हैं। बजरी भरने के चक्कर में यमदूत बनकर सड़कों पर दौड़ रहे हैं लेकिन कार्रवाई नहीं की जा रही। पूर्व में कई बार हादसे हो चुके हैं लेकिन फिर भी इनके खिलाफ सख्ती नहीं बरती जा रही। खनिज विभाग के अधिकारियों को भी सड़कों पर दौडऩे वाले बजरी के वाहन नजर नहीं आ रहे।