स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Attack : जंगल में जरख, जो भी मिला उस पर हमला

Kashyap Avasthi

Publish: Aug 11, 2019 23:07 PM | Updated: Aug 11, 2019 23:07 PM

Bagru


- 5 जनों को किया घायल, 10 गांवों में दहशत

- महलां के पास कांसेल क्षेत्र की घटना
- लाठियां लेकर जरख के पीछे भागत रहे लोग
- वनकर्मियों ने खंगाला जंगल, बैरंग लौटे

जयपुर. जिले के अजमेर रोड पर महलां के निकटवर्ती कांसेल पंचायत क्षेत्र में रविवार को जरख ने (Attack of jarakh) महिला सहित पांच जनों पर हमला कर दिया। घटना के बाद सैकड़ों लोग एकत्र हो गए और लाठियां लेकर जरख को तलाशा लेकिन वह जंगल में ओझल हो गया। सूचना के करीब छह घंटे बाद जयपुर से वन विभाग (forest team) की टीम पहुंची और जरख की तलाश की। उधर, घायलों को स्थानीय अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद जयपुर रैफर कर दिया।


जानकारी के अनुसार रविवार सुबह करीब 11 बजे कांसेल के बांडी नदी (bandi river) क्षेत्र के जंगल में भूरी देवी प्रजापत पति के साथ मवेशी चरा रही थी। इसी दौरान जरख ने महिला पर हमला कर दिया जिससे वह जख्मी हो गई। महिला के चिल्लाने पर पति पहुंचा तो जरख जंगल की ओर भागता दिखाई दिया।

घटना का पता चलते ही श्योजीराम जान्दू, हनुमान मीणा, सोनू बागरिया व विनोद बागरिया हाथों में लाठियां लेकर जरख को ढूंढने के लिए जंगल में निकल गए, जहां चारों पर जरख ने हमला कर उन्हें घायल कर दिया। घायलों को ग्रामीण निजी वाहनों से बगरू के राजकीय चिकित्सालय एवं निजी हॉस्पिटल में उपचार के लिए लेकर पहुंचे, जहां प्राथमिक उपचार के बाद सभी को एसएमएस अस्पताल (sms hospital) रैफर कर दिया।

 

छह बजे पहुंची वन विभाग की टीम
कांसेल सरपंच रतनी देवी, पूर्व सरपंच सायरमल मीणा, रामवतार बैरवा, जीएसएस अध्यक्ष ओमपुरी गोस्वामी आदि ने आरोप लगाया कि प्रशासन को समय पर सूचना देने के बाद भी अधिकारी व वन विभाग की टीम समय पर नहीं पहुंची। शाम करीब छह बजे वन विभाग की टीम पहुंची और जरख की तलाश की लेकिन पता नहीं चल सका।


इन गांवों में दहशत
जरख के हमले के टीकेल, मण्डोर, रोटवाड़ा, झाग, मानपुरा, राताखेड़ा, भीमपुरा, कुच्यावास, पिणाच, किरतपुरा आदि गांवों के लोगों में दशहत का माहौल है। ग्रामीण बच्चों की सुरक्षा को लेकर भी चिंता में हैं। लोगों ने बताया कि जंगल क्षेत्र में एक सियार मृत मिला है। अंदेशा है कि जरख ने उसको शिकार बनाया है। ऐसे में मवेशियों पर वह कभी भी हमला कर सकता है। इसलिए मवेशियों की निगरानी रखी जाएगी।


बघेरे (panther) का दावा, निकला जरख
ग्रामीणों ने वन्य जीव के हमले के बाद बताया कि बघेरे ने हमला किया है लेकिन जब बांडी नदी में वन विभाग झालाना से टीम पहुंची और पगमार्क लिए तो जरख की पुष्टि हुई। वन विभाग के कर्मचारियों ने दल-बल के साथ जंगल में तलाश किया। लेकिन रविवार शाम 7 बजे तक सुराग नहीं लग पाया।