स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विरोधी भी करते थे अटल का सम्मान :जयनाथ

Devesh Singh

Publish: Aug 16, 2019 19:17 PM | Updated: Aug 16, 2019 19:17 PM

Azamgarh

पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेई प्रथम पुण्यतिथि शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी द्वारा जिला कार्यालय में मनाई गई।

रिपोर्ट:-रणविजय सिंह
आजमगढ़। पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेई प्रथम पुण्यतिथि शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी द्वारा जिला कार्यालय में मनाई गई। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने उन्हें नम आंखों से श्रद्धांजलि अर्पित की। अटल जी के कृतित्व व व्यक्तित्व पर विस्तार से चर्चा की।

जिलाध्यक्ष जयनाथ सिंह ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई जनसंघ के संस्थापक सदस्यों में से एक थे। भारतीय जनता पार्टी की स्थापना के बाद भाजपा के प्रथम राष्ट्रीय अध्यक्ष बने। 1996 में पहली बार प्रधानमंत्री बने लेकिन लेकिन 13 दिनों के बाद बहुमत नहीं होने के कारण उन्हें अपने पद से त्यागपत्र देना पड़ा। 1998 में वह दूसरी बार प्रधानमंत्री बने और 13 महिनें तक सरकार चली। तीसरी बार वह 1999 में फिर से प्रधानमंत्री बने और अपना पांच वर्ष का कार्यकाल पूरा किया। 2004 के बाद स्वास्थ ठीक नहीं होने के कारण उन्होंने राजनीति से दूरी बना ली और 16 अगस्त 2018 को लम्बीं बिमारी से उनका निधन हो गया। उनकी अस्थियों को देश की 100 नदियों में विसर्जित किया गया। उनका जीवन भारत माता की सेवा के लिए समर्पित रहा ।

उन्होंने कभी अपने सिद्धांतों से समझौता नहीं किया। देश के वह इकलौते ऐसे नेता थे जिनका सम्मान विरोधी दल के लोग भी करते थे कभी किसी ने उनकी आलोचना नहीं किया। उनका जीवन सदैव हम सब के लिए प्रेरणा श्रोत रहेगा। प्रदेश मीडिया पैनलिस्ट अमित तिवारी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेई प्रखर वक्ता, कवि व पत्रकार थे। उनकी कविताओं और उनके ओजस्वी भाषण हमें भारत माता की सेवा करने की प्रेरणा देते है ।वह भूख भय , निरक्षरता, और अभाव से मुक्त भारत का निर्माण करना चाहते थें। उन्होंने अपना पूरा जीवन मां भारती के गौरव को बढ़ाने के लिए समर्पित कर दिया। वह एक सशक्त प्रधानमंत्री थे वह अपने संकल्पों के प्रति दृढ़प्रतिज्ञ थे। जब उनकी सरकार एक वोट कम होने के कारण गिर गई थी तब उन्होंने कहा था की आज हमारी सदस्य संख्या कम होने के कारण जो लोग हमपर हंस रहें हैं एक दिन ऐसा आएगा जब पूरे देश में चौतरफा कमल खिलेगा और देश उन पर हंसेगा। आज देश में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में पूर्ण बहुमत की सरकार है। जो सपना अटल बिहारी वाजपेई ने समृद्धि शक्तिशाली भारत का सपना देखा था वह आज पूरा हो रहा है। आज प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के प्रयासों से जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35 जो देश के लिए नासूर बना हुआ था उसको समाप्त कर दिया गया है। आज उनकी आत्मा निश्चित ही प्रसन्न होगी। आज हम उनकी पुण्यतिथि के अवसर पर उनके बताए गये मार्ग पर चलने का संकल्प लेते हुए उनको श्रद्धासुमन अर्पित करतें हैं ।
इस अवसर पर पंकज सिंह कौशिक, हनुमंत सिंह, हरिवंश मिश्रा, राकेश सिंह, विनय प्रकाश गुप्त, धर्मेन्द्र सिंह, पूनम सिंह, व कार्यकर्ता मौजूद रहे।