स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जानिये रिटायर दरोगा रामाश्रय यादव का शव तीन दिन बाद दफनाया क्यों गया

Mohd Rafatuddin Faridi

Publish: Nov 19, 2019 08:25 AM | Updated: Nov 19, 2019 08:27 AM

Azamgarh

मृत दरोगा का शव दफनाने के पहले पुलिस ने कराया भूमि सीमांकन।

आजमगढ़ . सरायमीर थाना क्षेत्र के बखरा गांव में भूमि विवाद के चलते हुई मारपीट में मृत दरोगा का शव मौत के तीसरे दिन सोमवार को दफनाया गया। तहसील प्रशासन द्वारा विवादित भूमि का सीमांकन कराने के बाद मामला शांत हो सका। इस मौके पर गांव में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था।

सरायमीर क्षेत्र के बखरा ग्राम निवासी 61 वर्षीय रिटायर्ड दरोगा रामाश्रय यादव पर भूमि विवाद के चलते विपक्षियों द्वारा शुक्रवार को हमला कर दिया गया था। घायल रामाश्रय यादव की बीते शनिवार की रात लखनऊ में इलाज के दौरान मौत हो गई। परिजन शव लेकर घर आए और अंतिम संस्कार करने से इंकार कर दिया। परिजनों ने मांग की थी कि जब तक विवादित भूमि की मापी नहीं होगी, हम अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। इतना ही नहीं परिजन विवादित भूमि पर शव दफनाने की जिद पर अड़े थे। रविवार को तहसील प्रशासन द्वारा मृतक के अंतिम संस्कार के लिए परिजनों से कोशिश की गई लेकिन मामला नहीं सुलझा।

गांव में व्याप्त तनाव को देखते हुए मौके पर पुलिस बल तैनात किया गया था। सोमवार को दिन में उपजिलाधिकारी मार्टीनगंज धीरज श्रीवास्तव ने चकबंदी अधिकारियों के साथ विवादित भूमि की मापी कराई। इसके बाद परिजन शांत हुए और दोपहर बाद मृतक के शव को गांव के कब्रिस्तान में दफना दिया गया। इस मौके पर सीओ फूलपुर रविशंकर प्रसाद, सरायमीर थानाप्रभारी शेर सिंह तोमर, दीदारगंज थानाप्रभारी धर्मेंद्र सिंह के साथ ही पीएसी के जवान मौजूद थे।

By Ran Vijay Singh

[MORE_ADVERTISE1]