स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सहेलियों संग मेले में चूड़ी खरीदने पहुंची माता सीता, जयकारों से गूंज उठा स्थल

Ashish Kumar Shukla

Publish: Oct 20, 2019 16:11 PM | Updated: Oct 20, 2019 16:11 PM

Azamgarh

151 साल लगातार आयोजित होने वाले इस मेले में पुरूषों का प्रवेश वर्जित था

जौनपुर. नगर के पुराना चौक स्थित उदयन अकेडमी स्कूल से पास लगे मेले में माता सीता सहेलियों संग चूड़ी खरीदने पहुंची तो मेला स्थल माता सीता और जय श्रीराम के जयकारों से गूंज उठा। 151 साल लगातार आयोजित होने वाले इस मेले में पुरूषों का प्रवेश वर्जित था।

बतादें कि नगर के पुराना चौक का चूड़ी मेला सालों की धरोहर है। इस मेले में महिलाओं की भारी भीड़ उमड़ती है। प्रसिद्ध चूड़ी मेले के बारे में मान्यता है लंका पर विजय के बाद माता सीता और भाई लक्ष्मण के साथ अयोध्या वापसी के बाद माता सीता ने अपनी सहेलियों के साथ शृंगार हाट पहुंचकर खरीददारी की थी। ऐसे में यह मेला महिलाओं के लिए शुभ का प्रतीक माना जाता है।

विजयदश्मी के पर्व के एक सप्ताह के बाद नगर में चूड़ी मेले का आयोजन किया जाता है। मेले में पूर्वांचल के विभिन्न जनपदों से के व्यापारी आकर दुकान लगाते हैं। मेले में बड़ी संख्या में महिलाएं खरीदारी करती हैं। साथ ही क्षेत्र की मुस्लिम महिलाएं भी इस मेले में सम्मिलित होती हैं। सप्ताह भर चलने वाले इस मेले में पुरुषों को प्रवेश नहीं दिया जाता।

माता सीता देती है आशीर्वाद

इस मेले में पहुंचने वाली महिलायें माता सीता से मिलती जुलची है। उनका स्वागत करती हैं। अपने अचल सौभाग्य के लिए माता के आशीर्वाद भी लेती हैं। मेले में आई महिलायें एकता और सौहार्द के इस माहौल का जी भर के लुफ्त उठाती हैं।