स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

योगी सरकार की मुश्किल बढ़ाएंगे लेखपाल

Ashish Kumar Shukla

Publish: Nov 19, 2019 18:55 PM | Updated: Nov 19, 2019 18:55 PM

Azamgarh

सरकार के खिलाफ बाइक जुलूस निकाल किया प्रदर्शन, कहा मंहगाई के इस दौर में 3.33 रूपया भत्ता कहा का न्याय

आजमगढ़. वेतन, भत्ता, प्रमोशन, एसीपी विसंगति सहित विभिन्न मांगे पूरी न होने से नाराज लेखपाल अब यूपी सरकार से दो-दो हाथ करने का मन बना चुके है। प्रांतीय नेतृत्व के निर्देश पर उप्र लेखपाल संघ ने मंगलवार को शहर में बाइक जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया। साथ ही आज के बाद शासकीय कार्य में बाइक का उपयोग न करने तथा सरकार द्वारा दी गयी मोबाइल में ह्वाट्सएप न चलने के कारण शायकीय गु्रप से खुद को अलग करने का फैसला लिया। मांग पूरी न होने पर लेखपालों ने आरपार के लड़ाई की चेतावनी दी।

बाइक जुलूस के दौरान लेखपालों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। कहा कि वेतन, भत्ता, प्रमोशन, एसीपी विसंगति, सेवा नियमावली, तहसीलों में आधारभूत सुविधा एंव संसाधन मांगों को लेकर हम लंबे समय से संघर्ष कर रहे हैं लेकिन सरकार ने आज तक इस पर ध्यान नहीं दिया। मजबूर होकर आज हमें जिले की सभी आठ तहसीलों में विरोध प्रदर्शन करना पड़ रहा है।

अध्यक्ष रामानुज श्रीवास्तव ने कहा कि सरकार हमें प्रतिदिन 3.33 रूपये यात्रा भत्ता देती है। हमारा क्षेत्र बड़ा है। बाइक का उपयोग हमारी मजबूरी है लेकिन आज के बाद हम बाइक का उपयोग नहीं करेंगे। बल्कि साइकिल या सार्वजनिक परिवहन से ही विभागीय काम के लिए जाएंगे। सरकार ने हमें जो मोबाइल सुविधा दी है उसमें ह्वाट्सएप चलाने की सुविधा नहीं है। इसलिए आज ही हम शासकीय ग्रुप छोड़ रहे हैं। भूलेख नियमावली के परिच्छेद 21 व 24 क में प्राविधान है कि लेखपाल माह में एक बार वेतन प्राप्त करने के लिए तहसील में उपस्थित होगा।

इसलिए लेखपाल अब प्रत्येक माह के प्रथम और तृतीय मंगलवार को तहसील समाधान दिवस व थाना समाधान दिवस में उपस्थित होगा लेकिन अन्य कार्यदिवस में तहसील पर उपस्थित न होकर पूर्वाह्न 10 बजे से शाम पांच बजे तक क्षेत्र में रहेगा।

[MORE_ADVERTISE1]