स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दबंग लेखपाल को नहीं दिया पांच हजार की रिश्वत तो थाने में किसान का गला दबाया, की पिटाई

Ashish Kumar Shukla

Publish: Oct 19, 2019 15:39 PM | Updated: Oct 19, 2019 15:39 PM

Azamgarh

एसडीएम के निर्देश के बाद भी लेखपाल ने सीमाकंन के नाम पर की थी पांच हजार की मांग

आजमगढ़. योगी सरकार के कानून व्यवस्था के दावों की पोल उन्हीं के मातहत खोल रहे है। शनिवार को समाधान दिवस के दौरान सरायमीर थाने में एक दबंग लेखपाल ने एक व्यक्ति पर सिर्फ इसलिए हमला कर दिया क्योंकि उसने सीमाकंन के नाम पर पांच हजार रूपया देने से मना कर दिया और थानेदार से उसकी शिकायत कर दी थी। इससे नाराज दबंग लेखपाल ने अधिकारियों के सामने ही पीड़ित का गला दिया और मां की गाली देते हुए पिटाई की। थानेदार के हस्तक्षेप के बाद मामला शांत हुआ।

बताते हैं कि फत्तनपुर गांव निवासी बेचन पुत्र विश्वनाथ ने पांच अक्टूबर को समाधान दिवस में प्रार्थना पत्र देकर आरोप लगाया था कि उसकी जमीन में गांव के ही एक दबंग ने दरवाजा खोल लिया है। वह उसकी भूमि पर कब्जा करने का प्रयास कर रहा है। ममाले को गंभीरता से लेते हुए एसडीएम निजामाबाद प्रिंयका प्रियदर्शनी ने क्षेत्रीय लेखपाल को मौके पर जाकर समस्या के समाधान का निर्देश दिया।

बेचन के मुताबिक जब उसने लेखपाल को मौके पर जाकर समस्या के समाधान के लिए कहा तो उसने पांच हजार रूपये की मांग की। शनिवार को बेचन समाधान दिवस पर थाने पहुंचे तो लेखपाल ने फिर रूपये की डिमांड की। इसके बाद बेचन ने लेखपाल सुभाष गुप्ता की शिकायत सरायमीर थाना प्रभारी शेर सिंह तोमर से कर दिया। इसके बाद शेर सिंह तोमर ने लेखपाल से पूछताछ शुरू कर दी। इससे नाराज लेखपाल ने बेचन को गाली देते हुए उसपर हमला कर दिया। अधिकारियों की मौजूदगी में पीड़ित पर हुए हमले से हड़कंप मच गया। लेखपाल इतने गुस्से में दिखा कि उसने पीड़ित का गला तक दबाने लगा।

बात बढ़ती देख शेर सिंह को मध्यस्ता के लिए आगे आना पड़ा। उन्होंने लेखपाल को डाटकर एक तरफ बैठा दिया। यह मामला अब उच्चधिकारियों तक पहुंच चुका है। अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण एनपी सिंह ने बताया कि मामले की जांच करायी जा रही है दोषी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वैसे अभी तक पुलिस ने लेखपाल के खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं किया है।