स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आजादी के बाद अब तक नहीं हुई इस गांव की चकबंदी, किसान परेशान

Sarweshwari Mishra

Publish: Nov 18, 2019 16:10 PM | Updated: Nov 18, 2019 16:10 PM

Azamgarh

देवारा विकास सेवा समिति के लोगों ने डीएम से मिल लगायी गुहार

आजमगढ़. सरकार विकास के लाख दावे करें लेकिन सगड़ी तहसील क्षेत्र के दियारा में एक गांव ऐसा भी जहां आजादी के बाद आज तक चकबंदी ही नहीं हुई है जिसके कारण यहां के लोग विकास से महरूम है। स्थानीय लोगों ने जिला प्रशासन को कई बार ज्ञापन सौंप चकबंदी कराने की मांग की लेकिन आज तक अधिकारियों ने इस पर ध्यान नहीं दिया। देवारा विकास सेवा समिति के अध्यक्ष राम केदार यादव ने सोमवार को जिलाधिकारी से मुलाकात कर तत्काल चकबंदी कराने की मांग की।


रामकेदार यादव ने जिलाधिकारी को बताया कि सगड़ी तहसील के ग्राम पंचायत देवारा जदीद में चकबंदी कराये जाने की मांग लंबे समय से उठ रही है लेकिन आज तक चकबंदी नहीं करायी गयी। इस गांव की चकबंदी नितांत आवश्यक है। इसके अलावा संगठन दस सूत्रीय मांगों को लेकर लगातार संघर्ष कर रहा है। क्षेत्र में रास्ता, अस्पताल, महाविद्यालय, दुग्ध डेयरी, बैंक शाखा आदि का पूर्णतया आभाव है। जिसके कारण दियारा क्षेत्र विकास में पिछड़ता जा रहा है। देवारा जदीद में आजादी के बाद से आज तक चकबंदी नहीं हो सकी है। चकबंदी नहीं होने के कारण किसानों के छोटे-छोटे खेतों के हिस्से इधर-उधर बिखरे पड़े है। जिसके परिणामस्वरूप किसानों को कृषि कार्य के लिए अधिक खर्च उठाना पड़ रहा है। देवारा जदीद में चकबंदी हो जाती तो किसानों के खेत एक ही स्थान पर आ जायेंगे जिसके कारण खेती कार्य में लागत कम आयेगी और किसानों की आय दुगुनी हो सकती है। साथ ही क्षेत्र के विकास को भी गति मिल जाती। इस अवसर पर वीरेन्द्र यादव, रामदुलार यादव, रणधीर यादव आदि मौजूद रहे।

[MORE_ADVERTISE1]