स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मामूली गलती पड़ी भारी, मंडल में 442 ड्राइविंग लाइसेंस वापस

Devesh Singh

Publish: Dec 07, 2019 19:19 PM | Updated: Dec 07, 2019 19:19 PM

Azamgarh

ड्राइविग लाइसेंस का सत्यापन होने के बाद गलत पता के चलते 442 लाइसेंस आवेदकों तक नहीं पहुंच पाए

रिपोर्ट:-रणविजय सिंह

आजमगढ़। ड्राइविग लाइसेंस का सत्यापन होने के बाद गलत पता के चलते 442 लाइसेंस आवेदकों तक नहीं पहुंच पाए। वापस हुए लाइसेंस लखनऊ मुख्यालय से मंडल के आरटीओ कार्यालय भेजा गया है। अब आवेदक एआरटीओ कार्यालय पहुंचकर अपना लाइसेंस प्राप्त कर सकेंगे। आरटीओ कार्यालय से मंडल के सभी एआरटीओ कार्यालय में लाइसेंस भेजा जा रहा है।

[MORE_ADVERTISE1]

पूर्व में लाइसेंस एआरटीओ कार्यालय से ही जारी किया जाता था जो आवेदकों द्वारा दिए गए पते पर भेजे जाते थे। पिछले लगभग आठ माह से लखनऊ मुख्यालय से लाइसेंस की छपाई होकर सीधे आवेदकों के पते पर भेजे जाते हैं। लाइसेंस बनवाते समय आवेदकों द्वारा भरे गए गलत पते की वजह से मंडल के तीनों जिलों के 442 लाइसेंस लखनऊ मुख्यालय वापस हुए, जिन्हें आरटीओ कार्यालय आजमगढ़ भेज दिया गया। इसमें आजमगढ़ के 205, बलिया के 190 व मऊ के 47 लाइसेंस शामिल हैं। सभी लाइसेंस एआरटीओ कार्यालय में उपलब्ध हैं। जिन आवेदकों को दो माह से अधिक समय बीत जाने के बाद भी लाइसेंस उपलब्ध नहीं हो सका वह एआरटीओ कार्यालय में पहुंचकर प्राप्त कर सकते हैं। एआरटीओ प्रशासन डा. आरएन चैधरी ने बताया कि आवेदक द्वारा फार्म भरते समय गलत पता भरे जाने के कारण लाइसेंस वापस हुए हैं। आवेदक एआरटीओ कार्यालय पहुंचकर अपना लाइसेंस प्राप्त कर सकते हैं।

[MORE_ADVERTISE2]