स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डीएम ने कहा बिना मान्यता वाले स्कूल पर नहीं होगी कार्रवाई तो नपेंगे अधिकारी

Devesh Singh

Publish: Jul 19, 2019 19:16 PM | Updated: Jul 19, 2019 19:16 PM

Azamgarh

अनुपस्थित एबीएसए पवई शैलेन्द्र त्रिपाठी एवं एबीएसए ठेकमा विश्वजीत को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के निर्देश

रिपोर्ट:-रणविजय सिंह
आजमगढ़। जिलाधिकारी नरेन्द्र प्रसाद सिंह शिक्षा के स्तर में सुधार के लिए कटिबद्ध नजर आ रहे है। उन्होंने जिले के 110 प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों में स्मार्ट क्लास के लिए उपकरण अपने क्रिटिकल गैप योजना से उपलब्ध कराने का फैसला किया है। उक्त निर्णय से उन्होंने विकास भवन के सभागार में हुई समीक्षा बैठक में अधिकारियों को अवगत कराया। इस दौरान अनुपस्थित एबीएसए पवई शैलेन्द्र त्रिपाठी एवं एबीएसए ठेकमा विश्वजीत को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के निर्देश दिए। हिदायत दी कि विभाग बिना मान्यता के चल रहे स्कूलों के खिलाफ कार्यवाही करें वर्ना आपके खिलाफ कार्यवाही की जायेगी।

जिलाधिकारी ने सभी एबीएसए को निर्देश दिये कि सभी स्कूलों में देख लें कि उस संबंधित गांव का कोई बच्चा बिना नामांकन के न रह जाये। बच्चों को गुणवत्तापूर्ण ड्रेस उपलब्ध कराया जाय। यदि इसमें कोई शिकायत मिली तो सख्त से सख्त कार्यवाही की जायेगी। जिलाधिकारी बीएसए को निर्देश दिये कि सभी ब्लाकों के पांच-पांच ऐसे विद्यालयों को चिन्हित करें, जिसमें पिछले वर्ष की तुलना में नामांकन ज्यादा हुआ हो तथा पिछले वर्ष बच्चों की उपस्थिति सबसे अच्छी रही हो, ऐसे विद्यालयों को स्मार्ट क्लास के लिए उपकरण मै अपने क्रिटिकल गैप से उपलब्ध कराऊंगा।सभी स्कूलों में जूता, मोजा, किताब, ड्रेस आदि की समीक्षा में अभी तक मोजा उपलब्ध न कराये जाने पर संबंधित फर्म के खिलाफ पैनाल्टी लगाने के निर्देश दिये। उन्होने सभी मान्यता प्राप्त विद्यालयों को अपने स्कूलों के बाहर स्कूल का कोड लिखने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने जनपद में बिना मान्यता के चल रहे विद्यालयों के खिलाफ एबीएसए को सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिये, इसमें एक लाख जुर्माना तथा यदि स्कूल चलता है तो प्रतिदिन 10 हजार रूपये जुर्माना लगाने का प्रावधान है। उन्होने बीएसए से कहा कि जिस ब्लाक में पिछले वर्ष के सापेक्ष कम है, उनके खिलाफ कार्यवाही प्रस्तावित करायें। उन्होने बीएसए को एक फार्मेट बनाने के निर्देश दिये, जिसमें उस ब्लाक में कितने स्कूलों मे क्वालिटि एजुकेशन दिया जा रहा है, कहां-कहां खेल के उपकरण, पुस्तकालय की किताबें उपलब्ध करायी गये, आदि को सम्मिलित करते हुए एबीएसए के कार्यां की समीक्षा की जायेगी, और जिस की परफारमेन्स खराब होगी, उनके खिलाफ कार्यवाही की जायेगी।