स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अब बसपा में किसी भी जाति का बन सकेगा अध्यक्ष, उपाध्यक्ष की कुर्सी होगी दलित के पास

Sarweshwari Mishra

Publish: Nov 18, 2019 13:59 PM | Updated: Nov 18, 2019 13:59 PM

Azamgarh

प्रदेश अध्यक्ष ने पदाधिकारियों को दी खुद को बदलने व जनता से जुड़ने की नसीहत

आजमगढ़. शहर के नेहरूहाल में आयोजित बसपा की मंडल स्तरीय कार्यकर्ता बैठक आम बैठकों से बिल्कुल अलग नजर आयी। इसमें जहां सपा छोड़कर आये नेताओं का खुलकर खैरमखदम किया गया वहीं कार्यकर्ताओं को जमीन से जुड़ने की नसीहत दी गयी। प्रदेश अध्यक्ष हाजी मुनकाद अली ने माना कि पदाधिकारियों को स्वयं में सुधार लाने की जरूरत है। इस दौरान उन्होंने लोगों को उनकी जिम्मेदारियों का एहसास कराते हुए पार्टी को बूथ स्तर तक मजबूत बनाने और संगठन में सर्व समाज के लोगों को जगह देने का अह्वन किया।


मंडल के तीनों जिलों आजमगढ़, मऊ व बलिया से आए पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष ने उन कारणों की तरफ ध्यान आकर्षित किया जिसके चलते लोकसभा व विधानसभा उप चुनाव में आपेक्षित परिणाम नहीं आए। उन्होंने कहा कि बूथ एजेंट के भरोसे हम यहां तक पहुंचे हैं, लेकिन उनके सुख-दुख में उन्हें कोई पूछने नहीं जाता। पुराने नेताओं के मोहल्ले में बैठक हो जाती है और उन्हीं को सूचना नहीं दी जाती। पुराने लोगों से मिलने की आदत डालनी होगी। हम रास्ते से भटक गए हैं। पदाधिकारियों के पक्ष में व्यक्तिगत नारे लगाने की प्रथा को भी बंद किया जाना चाहिए। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि हमें सुधार कर आगे बढना होगा और पार्टी को मजबूत बनाकर 2022 में बसपा प्रमुख मायावती को मुख्यमंत्री बनाना होगा। छह नवंबर को बसपा प्रमुख के साथ बैठक में लिए गए निर्णयों की जानकारी देते हुए बताया कि अब सर्वसमाज से कोई भी जिलाध्यक्ष बन सकता है। उपाध्यक्ष अनुसूचित जाति से होगा, महासचिव भी कोई बन सकता है। विधानसभा सचिव सर्व समाज से होंगे। उन्होंने कहा केंद्र व प्रदेश सरकार ने अपना कोई वादा पूरा नहीं किया है।


पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सुखदेव राजभर ने कहा कि हम बाबा साहब अंबेडकर के विचारों को आत्मसात कर आगे बढ़ने वाले लोग हैं। बसपा ने हमेशा सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय के नारे पर काम किया है। आज देश और प्रदेश की जनता बीजेपी सरकारों की गलत नीतियों से त्रस्त है। सभी को भरोसा है कि बसपा मुखिया ही हमें भय भूख व भ्रष्टाचार से मुक्ति दिला सकती है। इसलिए हमें जनता के बीच जाकर संगठन को मजबूत करने और लोगों का भरोसा जीतने की जरूरत है। अगर हम ऐसा करने में सफल रहे तो वर्ष 2022 में बहन जी का यूपी का मुख्यमंत्री बनना तय है।


इस दौरान घनश्याम खरवार, ओपी त्रिपाठी, डॉ सुधीर भारतीय, रामचंद्र गौतम, पूर्व सांसद डॉक्टर बलिराम, पूर्व विधायक विद्या चैधरी, डॉक्टर मदन राम, लालगंज की सांसद संगीता आजाद, डॉक्टर विजय प्रताप, हीरालाल गौतम, इंदल राम, ब्लाक प्रमुख रमेश यादव, विधायक अरिमर्दन आजाद, पूर्व मंत्री हीरालाल गौतम आदि उपस्थित थे।

[MORE_ADVERTISE1]