स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शराब के नशे में युवक कर रहा था मां की पिटाई. छोटे भाई ने चाकुओं से हमला कर उतारा मौत के घाट

Ashish Kumar Shukla

Publish: Aug 18, 2019 18:38 PM | Updated: Aug 18, 2019 18:38 PM

Azamgarh

पति पत्नी को गिरफ्तार कर पुलिस ने भेजा जेल, मृतक का पूरे गांव में था आतंक

आजमगढ़. बिलरियागंज थाना क्षेत्र के बरोही फतेहपुर गांव में हुई युवक की हत्या में नया मोड़ आ गया है। हत्या के पीछे सिर्फ पैसे का लेनदेन ही नहीं बल्कि उसकी क्रूरता भी है। शराब के नशे में युवक रूपये के लिए अपनी मां को मारपीट रहा था जिससे उसका हाथ टूट गया। यह देख छोटे भाई को लगा कि वह मां की हत्या न कर दे इसलिए उसने बड़े भाई पर चाकू हमला कर मौत के घाट उतार दिया। आरोपी पति पत्नी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

बता दें कि बिलरियागंज थाना क्षेत्र के बरोही फतेहपुर गांव निवासी रामनाथ सिंह की पत्नी नयनकुमारी ने अपनी 10 बिस्वा जमीन इशरावती यादव को 5 लाख 90 हजार रूपये में बेचा था। जिसमें से पहले ही 1 लाख 97 हजार रूपया मृतक ने इशरावती देवी से लेकर शराब पीकर व अन्य कामों खर्च कर दिया था। मृतक शेष पैसे (3 लाख 97 हजार) जबरजस्ती लेना चाहता था।

अविनाश को शराब की लत होने के कारण उसकी मां को डर था की पूर्व की भांति वह यह रूपया भी शराब में बर्बाद कर देगा। इसलिए वह पैसा उसे नहीं देना चाहती थी लेकिन अविनाश वह रूपया किसी कीमत पर हासिल करना चाहता था।

इसी बात को लेकर 16 अगस्त को विवाद हुआ। विवाद के दौरान शराब के नशे में धुत्त अविनाश ने अपनी मां पर हमला कर दिया जिससे उसकी मां का हाथ टूटा गया। यह देख छोटे भाई ने विरोध किया तो उसने उसे भी टांगी लेकर दौड़ा लिया। दौड़ाते समय मृतक गिर गया और मौका पाकर छोटे भाई अंकित कुमार सिंह पुत्र रामनाथ सिंह ने कई बार चाकू घोंप दिया। अपने बड़े भाई को लहुलुहान देखकर अभियुक्त मौके से फरार हो गया।

मृतक की पत्नी की तहरीर पर इस मामले में पुलिस अंकित और उसकी पत्नी गोल्डी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर आरोपियों की तलाश में जुटी थी। इसी बीच रविवार को पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली कि आरोपी भीमबर बाजार में मौजूद है और कहीं भागने की कोशिश कर रहे है। इसके बाद पूर्वांह्न करीब 8.30 बजे पुलिस भीमबर बाजार पहुंची और दोनों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया। जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।