स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कहीं आपने भी तो नहीं कराई फर्जी मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी, नहीं मिलेगा क्लेम

Vineet Singh

Publish: Jul 21, 2019 09:43 AM | Updated: Jul 21, 2019 09:54 AM

Automobile

  • Motor Insurance में हो रहा फर्जीवाड़ा
  • सस्ते इंश्योरेंस के चक्कर में लोग खा जाते हैं धोका
  • बाद में नहीं मिलता है इंश्योरेंस क्लेम

नई दिल्ली: अगर आपके पास कोई वाहन है तो आपके पास उसका मोटर इंश्योरेंस ( Motor insurance ) भी होगा। दरअसल अगर आपका वाहन चोरी हो जाता है या फिर आप किसी एक्सीडेंट का शिकार हो जाते हैं तो आपके वाहन की मरम्मत का खर्च इंश्योरेंस कंपनी उठाती है। लेकिन आजकल देश में देश में फर्जी मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है जिसमें ग्राहक से इंश्योरेंस की रकम तो पूरी वसूली जाती है लेकिन जब क्लेम लेने की बारी आती हैं तब ये फर्जी इंश्योरेंस कंपनियां मुकर जाती हैं। तो चलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि आप कैसे इन फर्जी इंश्योरेंस कंपनियों की जालसाजी से बच सकते हैं।

( Insurance Regulatory Development Authority of India ) भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण, इरडा ( IRDA ) के डाटा के मुताबिक़ पिछले दो सालों में 53.7 करोड़ रुपये की फर्जी मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी बिकी हैं, वहीं ऐसे मामलों की संख्या 498 से बढ़ कर 1,192 तक पहुंच गई है। इरडा की फ्रॉड मॉनिटरिंग सेल के डाटा की बात करें तो 2016-17 में 498 नकली पॉलिसी बिकीं, वहीं 2017-18 में ये संख्या लगभग दोगुनी यानी 823 हो गई। जबकि साल 2018-19 में यह संख्या बढ़ कर 1192 हो चुकी है।

जल्द भारत में लॉन्च होगी Harley Davidson LiveWire, भारतीय वेबसाइट पर हुई लिस्ट

Motor Insurance

आधे से भी कम कीमत में मिल जाती हैं ये पॉलिसी

आपको ये बात जानकार बेहद हैरानी होगी कि सबसे ज्यादा फर्जी इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने वालों में ट्रक चालाक और दुपहिया वाहन चालक आते हैं। दरअसल ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि ये फर्जी पॉलिसी आधे से भी कम कीमत में बन जाती हैं लेकिन दुर्घटना होने या फिर वाहन चोरी हो जाने की स्थिति में इन पॉलिसीज में आपको कोई क्लेम नहीं मिलता है। लोग बस पुलिस चेकिंग से बचने के लिए ये पॉलिसी खरीदते हैं।

ऐसे जान सकते हैं पॉलिसी की पूरी डीटेल्स

आपको बता दें कि कुछ कंपनियों ने फर्जीवाड़े से लोगों को बचाने के लिए अपनी पॉलिसीज पर बारकोड लगाए हुए हैं जिन्हें स्कैन करके ग्राहक एक बार में ही पॉलिसी से सम्बंधित सारी डीटेल्स हासिल कर सकते हैं।

Kona Electric होगी Hyundai की पहली बिजली से चलने वाली कार, एक चार्जिंग में चलती है 482 किलोमीटर

 

Motor Insurance

इन स्टेप्स को फॉलो करके बच सकते हैं फर्जी इंशोरेंस पॉलिसीज से

  • कोशिश करें कि ऑनलाइन वेबसाइट पर जाकर कंपनी की आधिकारिक साइट से ही पॉलिसी खरीदें, वहां पर आपको पॉलिसी की सभी डीटेल्स मिल जाएंगी।
  • अगर आप बाहर से कोई वाहन के लिए कोई इंश्योरेंस पॉलिसी खरीद रहे हैं तो किसी जानकार व्यक्ति से ही खरीदें।
  • IRDAI ( Insurance Regulatory and Development Authority ) वाहन बीमा पॉलिसी पर QR कोड प्रिंट करना जरूरी कर दिया है, जिसकी मदद से ग्राहक किसी भी पॉलिसी की पूरी डीटेल्स हासिल कर सकते हैं। इससे आप पॉलिसी की डिटेल्स क्यूआर कोड के जरिये मोबाइल पर चेक सकते हैं। भारत में दिसंबर 2015 के बाद बिकने वाली मोटर बीमा पॉलिसियों में आम तौर पर एक क्यूआर कोड होता है।
  • कभी भी पॉलिसी खरीदने के लिए भुगतान कंपनी के नाम के चेक से करें, व्यक्तिगत भुगतान से बचें।
  • जब भी आप पॉलिसी खरीदते हैं तो आपको उस कंपनी के नंबर और ईमेल पर संपर्क कर लेना चाहिए।