स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मर्डर केस में पूर्व सांसद प्रभुनाथ दोषी करार, 22 साल बाद मिला न्याय

Shribabu Gupta

Publish: May 18, 2017 19:47 PM | Updated: May 18, 2017 19:47 PM

Aurangabad

मशरख विधायक अशोक सिंह की हत्या के मामले में आज 22 सालों के बाद न्याय मिला है...

औरंगाबाद। मशरख विधायक अशोक सिंह की हत्या के मामले में आज 22 सालों के बाद न्याय मिला है। हजारीबाग व्यवहार न्यायालय ने राष्ट्रीय जनता दल के दबंग नेता व पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह और उनके दो भाइयों को 22 साल पुराने विधायक हत्याकांड में दोषी करार दिया गया है। उन्हें न्यायालय परिसर से ही गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया। कोर्ट 23 मई को सजा सुनाएगा।

जानकारी के अनुसार तीन जुलाई 1995 को मशरख की बिहार में गोली औरबम मारकर हत्या कर दी गई थी। मृतक की पत्नी चांदनी देवी कीशिकायत पर मामले में गर्दनीबाग थाना, पटना में प्राथमिकी339/95 दर्ज की गई थी। इसमे प्रभुनाथ सिंह, उनके भाईदीनानाथ सिंह, रितेश सिंह समेत कई आरोपी बने थे।

हज़ारीबाग जेल में रहने के दौरान प्रभुनाथ ने अपना केस अलग कराते हुएहाइकोर्ट के आदेश से अपने कई मामलों को झारखंड के हज़ारीबाग में स्थानांतरित करा लिया था। तब से यह मामला भी हज़ारीबागकोर्ट में चल रहा था।

यहां आने के बाद भी पीड़ित पक्ष कमजोरनहीं पड़ा और तारीखों  पर आते हुए मामले को मुकाम तक ले गए ।गवाहों के बयान और साक्ष्यों को देखते हुए कोर्ट ने गुरुवार कोहत्या और एक्सप्लोसिव एक्ट में उन्हे दोषी पाया । तीनो भाइयों कोइसी के साथ हिरासत में लेकर जेपी कारा भेज दिया गया,  जबकिएक आरोपी केदारनाथ सिंह को संदेह का लाभ देते हुए रिहा करदिया गया। एडीजे 9 सुरेन्द्र शर्मा ने मामले को सजा के बिंदु पर रखदिया है । 23 मई को अब इसमें सजा सुनाई जाएगी।

प्रभुनाथ सिंह की पहचान बिहार के दबंग नेताओं में होती है। अभी वह लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल से जुड़े हैं। इससे पहले जदयू में थे। वर्ष 2004 में जदयू के टिकट पर ही महाराजगंज संसदीय क्षेत्र से निर्वाचित हुए थे। वर्ष 2012 में जदयू छोड़कर राजद में शामिल हो गए। वर्ष 2013 में महाराजगंज लोकसभा उपचुनाव में एक बार फिर सीट हासिल करके संसद पहुंचे थे।