स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बिहार निकाय चुनाव: नए चेहरों की भरमार, महिलाओं का रहा दबदबा

Shribabu Gupta

Publish: May 25, 2017 13:24 PM | Updated: May 25, 2017 13:24 PM

Aurangabad

बिहार के नगर निकायों के घोषित हुए नतीजों में नये लोगों की जबर्दस्त जीत हुई है। महिलाओं का तो लगभग हर जगह दबदबा है...

औरंगाबाद। बिहार के नगर निकायों के घोषित हुए नतीजों में नये लोगों की जबर्दस्त जीत हुई है। महिलाओं का तो लगभग हर जगह दबदबा है। लेकिन तस्वीर का दूसरा पहलू यह भी है कि जिन वार्डों से महिलाएं जीती हैं उनमें से अधिकतर में पहले उनके पति या कोई रिश्तेदार काबिज थे। इधर चुनावी नतीजों के बाद सीवान और मुजफ्फरपुर में हिंसा भड़क उठी।


कई निकायों में एक भी पुराना नहीं
औरंगाबाद जिले के औरंगाबाद और नवीनगर निकायों में एक भी पुराना पार्षद नहीं लौटा। जहानाबाद में ३३ में २५ नये हैं तो मखदुमपुर में एक भी पुराना पार्षद नहीं लौटा। सीवान के ३८ वार्डों में ३३ नये चेहरे चुनाव जीते हैं।

गोपालगंज के २८ में १२ तो भभुआ में २५ वार्डों में २० नये चेहरे आये हैं। वैशाली जिले के ३९ वार्डों में २८ महिलाएं चुनाव जीती हैं। यहां से १८ तो लालगंज में १९ वाडों में १२ नये चेहरों ने बाजी मारी। रोहतास जिले के सासाराम में ४० में ३२ तो डेहरी में ३९ में ३२ नये चेहरे हैं। बिहारशरीफ में ७० फीसदी वार्डों में नये पार्षदों ने पुराने लोगों को बाहर का रास्ता दिखा दिया। बक्सर में ३४ में २६ तो डुमरांव में २६ वार्डों में २० नये चेहरे हैं।

आरा नगर निगम के ४४ वार्डों में ३७ नये चेहरे हैं। नवादा नगर परिषद में ३३ में २५, वारिसलीगंज के २० में १८ और हिसुआ के १७ वार्डों में ९ नये चेहरे चुनाव जीते हैं। मुजफ्फरपुर नगर निगम के ४९ वार्डों में सिर्फ छह पुराने पार्षदों की वापसी हुई। पूर्वी चंपारण में १०९ में ६९ नये चेहरे आये व ५९ पर महिलाएं जीतीं। सीतामढ़ी के २८ वार्डों में २१ में नए चेहरे जीते हैं। शिवहर के १५ वार्डों में दस पर महिलाएं जीती हैं।