स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सोनभद्र में सीएम योगी के पहुंचने के बाद अब अखिलेश यादव ने भी किया यह ऐलान

Abhishek Gupta

Publish: Jul 21, 2019 16:08 PM | Updated: Jul 21, 2019 16:08 PM

Auraiya

सोनभद्र में पीड़ितों से मिलने के चलते प्रियंका गांधी वाड्रा द्वारा किए गए धरना प्रदर्शन से सभी दलों में हड़कंप मचा दिया है।

लखनऊ. सोनभद्र (Sobhadra) में पीड़ितों से मिलने के चलते प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) द्वारा किए गए धरना प्रदर्शन से सभी दलों को बड़ी चुनौती दे दी है। सुस्त पड़ी कांग्रेस (Congress) में अचानक एक नई स्फूर्ति पैदा कर प्रियंका ने सभी दलों को चेता दिया है कि कांग्रेस को कोई हल्के में न ले। इसी का नतीजा हैं कि शायद नरसंहार के चार दिन बाद सीएम योगी (CM Yogi) रविवार को सोनभद्र पहुंचे और प्रियंका के असर को कम करने के लिए पीड़ित परिवारों के लिए बड़ी घोषणाएं कीं। उन्होंने पीड़ित परिवार को 18.5-18.5 लाख रुपए के मुआवजे व आवास देने की बात कही है। इससे पहले कांग्रेस ने भी पीड़ित परिवार को 10-10 लाख रुपए देने का ऐलान कर दिया था। लेकिन इस मौके पर जिनसे सबसे ज्यादा उम्मीदे थीं वह अभी तक सोनभद्र नहीं पहुंचे। बात है समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) व बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) की जो शायद अभी तर रणनीति ही बना रहे हैं। बहरहाल इस बीच अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) का बयान आया है जिसमें उन्होंने कहा है कि समाजवादी पार्टी 23 जुलाई को सोनभद्र जाएगी व पीड़ित परिवार से मिलेगी।

ये भी पढ़ें- प्रियंका गांधी का 26 घंटे सियासी खेल

Akhilesh

सपा ने किया यह ऐलान-

सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी (Rajendra Chaudhary) ने बताया है कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर सोनभद्र की ग्रामसभा मूर्तिया (उम्भा) गांव में 17 जुलाई को हुए भीषण नरसंहार के विरोध और उसके पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए समाजवादी पार्टी 23 जुलाई को सोनभद्र कूच करेगी। मिर्जापुर, भदोही, वाराणसी, चंदौली और सोनभद्र जनपदों से जनसमूह सोनभद्र के पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए बड़ी संख्या में सोनभद्र के लिए कूच करेंगे। हजारों की संख्या में गोंड समाज एवं अन्य आदिवासी भी इस कूच में शामिल होंगे।

ये भी पढ़ें- सोनभद्र मामले पर यूपी के नए प्रदेश अध्यक्ष ने पहली बार दिया बड़ा बयान, अखिलेश व मायावती ने किया पलटवार

रोक दिया गया था सपा को-

गौरतलब है कि 19 जुलाई को प्रशासन ने प्रियंका गांधी की तरह पीड़ित परिवारों से मिलने गए समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधिमण्डल को भी गांव की सीमा पर ही रोक दिया। बताया जा रहा है कि गांव की चारों तरफ पुलिस नाकेबंदी की गई है। धारा 144 लागू कर दी गई थी।