स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मार्गशीर्ष पूर्णिमा आज, ऐसे करेंगे पूजन तो मिलेगा सौभाग्य का वरदान

Rajeev sharma

Publish: Dec 13, 2016 11:27 AM | Updated: Dec 13, 2016 11:27 AM

Astrology and Spirituality

इस माह में नदी स्नान करना सबसे महत्वपूर्ण माना गया है। साथ ही, इस दिन पूजा करने व दान-पुण्य करने से कई गुना अधिक फल मिलता है। इस बार मंगलवार (13 दिसंबर 2016 ) को मार्गशीर्ष पूर्णिमा है।

हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार व्रत एवं पूजन करने से सभी सुखों की प्राप्ति होती है। ऐसे ही मार्गशीर्ष का महीना श्रद्धा एवं भक्ति का माना जाता है। मान्यता है कि इस माह को श्री कृष्ण का माह कहा जाता है।




यहां राजा के रूप में पूजे जाते हैं श्रीराम, सूर्योदय व सूर्यास्त के समय पुलिस देती है सलामी




इस माह में नदी स्नान करना सबसे महत्वपूर्ण माना गया है। साथ ही, इस दिन पूजा करने व दान-पुण्य करने से कई गुना अधिक फल मिलता है। इस बार मंगलवार (13 दिसंबर 2016 ) को मार्गशीर्ष पूर्णिमा है। 




मार्गशीर्ष पूर्णिमा का महत्व

हिंदू धर्म में मान्यता है कि जिस तरह कार्तिक, माघ, वैशाख की पूर्णिमा का विशेष महत्व गंगा स्नान करने से होता है। उसी तरह, इस दिन स्नान करना अति शुभ एवं उत्तम माना गया है। मार्गशीर्ष माह की पूर्णिमा का आध्यात्मिक महत्व अधिक होता है। 




यज्ञ के बाद दक्षिणा में दे दिए पुराने 1,000 व 500 के नोट, पंडितों ने मचाया बवाल




इस दिन व्रत करके भगवान विष्णु की पूजा करने से मनवांछित फल प्राप्त होता है। इस दिन नदियों या सरोवरों में स्नान करने तथा सामर्थ्य के अनुसार दान करने से सभी पाप धुल जाते हैं। साथ ही पुण्य की प्राप्ति भी होती है। 




मान्यता है कि इस दिन दान-पुण्य करने से वह बत्तीस गुना फल प्राप्त होता है। इसलिए मार्गशीर्ष पूर्णिमा को बत्तीसी पूनम भी कहा जाता है। 




ऐसे करें पूजन

इस दिन विशेषकर भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। 

- सुबह स्नान करें और सफेद रंग के वस्त्र धारण करें। 

-विधि-विधान के साथ भगवान विष्णु की पूजा करें। 

- यथासंभव योग पंडित से पूजा कराएं। 

- पूजा के बाद पंडित को दक्षिणा देकर विदा करें। 

- इस दिन किसी ब्राह्मण या फिर किसी गरीब को दान करें। 

- इसके बाद प्रसाद ग्रहण करें।