स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

34 घंटे बाद भी पुल से डेढ़ फिट ऊपर पानी बहता रहा, पूरी तरह से डूबा रहा पुल

Arvind jain

Publish: Sep 11, 2019 13:33 PM | Updated: Sep 11, 2019 13:33 PM

Ashoknagar

जिले में अब तक 41 इंच हो चुकी बारिश, विदिशा-भोपाल में फिर से हुई तेज बारिश से आज भी इन दोनों रास्तों के खुलने की संभावना नहीं।

अशोकनगर। पिछले 24 घंटे में जिले में 14.5 मिमी बारिश heavy rain हुई और पूरे सीजन में जिले में अब 41 इंच बारिश हो चुकी है। विदिशा-भोपाल में तीन दिन से जारी तेज बारिश से लगातार तीन दिन से बेतवा नदी betwa nadi उफान पर है और लगातार 34 घंटे से बीना और ललितपुर मार्ग बंद हैं, देर रात तक मार्ग न खुल पाने से लोग परेशान होते रहे। वहीं कंजिया पुल से डेढ़ फिट ऊपर पानी होने के बाद लोग जान जोखिम में डालकर उफानती नदी को पार करने का प्रयास करते दिखे।


पुल से ऊपर दूसरे दिन भी पानी बहता रहा
बेतवा नदी पर कंजिया पुल से ऊपर दूसरे दिन भी पानी बहता रहा, तो वहीं राजघाट बांध के 16 गेट लगातार 20 घंटे तक खुले रहे और शाम को चार बजे दो गेटों को बंद कर दिया गया। इससे 14 गेटों को खोलकर राजघाट बांध से दो लाख 45 हजार 936 क्यूसेक (69.64 लाख लीटर प्रति सेकेंड) पानी छोड़ा जा रहा है। बेतवा रिवर बोर्ड के अधिकारियों का कहना है कि नदी के उफान को देखते हुए गेटों को पानी निकासी को घटाया-बढ़ाया जा सकता है। हालांकि शाम के समय भी यूपी-एमपी पुल के 15 फिट ऊपर पानी बहता रहा।


तीन दिन से डूबी हुई हैं फसलें
किसानों के मुताबिक बेतवा नदी के उफान पर आने से लगातार तीन दिन से हजारों बीघा जमीन पानी में डूबी हुई है और अन्य खेतों में भी पानी भरा हुआ है। इससे अब फसल के पूरी तरह से बर्बाद होने की आशंका बनी हुई है। सीजन में अब तक अशोकनगर ब्लॉक में 1109 मिमी, चंदेरी में 1002 मिमी, ईसागढ़ में 933 मिमी और मुंगावली ब्लॉक में 1071 मिमी बारिश अब तक हो चुकी है। वहीं मौसम विभाग ने जिले में आज बारिश का ऑरेंज अलर्ट घोषित किया है।

mp news

तालाब में भी छलांग लगा रहे
उधर अशोकनगर जिले के अमाही तालाब पर बेस्ट वियर (छरार) पर युवा अपनी जान को जोखिम में डाल रहे हैं। तालाब की छरार पर बहते हुए पानी के बीच घुमते हुए युवा कभी भी नीचे गिर सकते हैं।इसके अलावा युवा तालाब में भी छलांग लगा रहे हैं। जबकि यहां पानी में उगने वाली झाडिय़ों की भरमार है। तालाब पर सुरक्षा के लिए कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं।


बेस्ट वियर से पानी गिरने लगा

उल्लेखनीय है कि जिले में जोरदार बारिश के बाद अमाही तालाब फुल हो गया है और इसके बेस्ट वियर से पानी गिरने लगा है।इसे देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग तालाब पर पहुंच रहे हैं।छरार से गिरता पानी एक खूबसूरत छरने का आकर्षण देता है, लेकिन छरार का यह आकर्षण जानलेवा साबित हो सकता है। बड़ी संख्या में यहां पहुंच रहे युवा तालाब की छरार पर घूम रहे हैं। पानी के तेज बहाव में जरा सी लापरवाही भारी पड़ सकती है।


जान को जोखिम में डाल सकती है
संतुलन बिगड़ा और सीधे 30 फुट नीचे पत्थरों पर जाकर गिरने का डर है। इसके अलावा कई युवा छरार के दूसरी ओर लबालब भरे तालाब में भी छलांग रहे हैं। जबकि यहां पानी में झाडिय़ां बहुतायत में है।जो पैरों में फंस सकती हैं। इसलिए यहां भी लापरवाही जान को जोखिम में डाल सकती है।

 

कोई इंतजाम नहीं
हर दिन यहां लोगों के पहुंचने के बावजूद यहां सुरक्षा के लिए किसी भी तरह के इंतजाम नहीं है। न तो होमगार्ड जवानों की तैनाती है और न ही नाव, ट्यूब या अन्य कोई उपकरण जो हादसे के वक्त मददगार साबित हो सके।