स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सूर्यदेव का सिंह राशि में गोचर, जानिये किसके हाथ आएगी सफलता और किसे असफलता

Deepesh Tiwari

Publish: Aug 16, 2019 11:47 AM | Updated: Aug 16, 2019 11:47 AM

Ashoknagar

जानिये अपनी राशि rashi parivartan पर प्रभाव और परेशानियों से बचाव tips के उपाय : rashi parivartan effects of suryadev on your zodiac sign ...

भोपाल। वर्ष 2019 के अगस्त माह शुरुआती 17 दिनों में ही 4 प्रमुख ग्रहों का राशि परिवर्तन rashi parivartan है। जिसका सीधा अच्छा या बुरा प्रभाव हर राशि zodiac sign पर होने जा रहा है। वहीं कल यानि 17 अगस्त 2019 को सूर्यदेव suryadev भी राशि परिवर्तन rashi parivartan in hindi करते हुए अपनी ही राशि सिंह leo rashi में जा रहे हैं। ज्योतिष में सूर्य को आत्मा का कारक माना गया है। ऐसे में इनके इस परिवर्तन का हर राशि पर विशेष असर होगा।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार नवग्रहों के स्वामी सूर्य देव को हिन्दू धर्म hindu में आदि पंचदेवों panchdev में से एक देव के रूप में पूजा जाता है। वैदिक ज्योतिष vadic jyotish में सूर्य ग्रह जन्म कुंडली janm kundali में पिता का प्रतिनिधित्व करता है। जबकि किसी महिला की कुंडली में यह उसके पति के जीवन के बारे में बताता है। सेवा क्षेत्र में सूर्य उच्च व प्रशासनिक administrative service पद तथा समाज में मान-सम्मान को दर्शाता है।

Astrology

यह लीडर (नेतृत्व करने वाला) का भी प्रतिनिधित्व करता है। सूर्य सिंह राशि का स्वामी है और मेष राशि में यह उच्च होता है, जबकि तुला इसकी नीच राशि है। ज्योतिष शास्त्र में सूर्य के जातक की कुंडली में प्रभाव से जीवन में तरक्की, सफलता और सम्मान के साथ ही पिता के साथ बेहतर संबंध भी स्थापित होते हैं।

सूर्यदेव के मंत्र : surya mantras
सूर्य का वैदिक मंत्र
ॐ आ कृष्णेन रजसा वर्तमानो निवेशयन्नमृतं मर्त्यं च।
हिरण्ययेन सविता रथेना देवो याति भुवनानि पश्यन्।।

सूर्य का तांत्रिक मंत्र
ॐ घृणि सूर्याय नमः।।

सूर्य का बीज मंत्र
ॐ ह्रां ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः।।

सूर्य के गोचर का असर : sun transit effect
वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य आत्मा, पिता, पूर्वज, राज्य सम्मान, नेत्र और राजनीति आदि का कारक है। सूर्य के शुभ प्रभाव से विभिन्न कार्यक्षेत्र में उच्च पद की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्र में भी मान-सम्मान मिलता है।

 

MUST READ : 16 अगस्त 2019 के बाद जानिये कौन होगा मालामाल और कौन बनेगा कंगाल!

rashi parivartan

वहीं दूसरी तरफ यदि कुंडली पर सूर्य का अशुभ bad effects प्रभाव हो तो जातक को आंख संबंधी समस्या का योग, पिता को कष्ट और पितृ दोष की स्थिति बनती है। इसलिए जन्म कुंडली में सूर्य से संबंधित किसी भी परेशानी के समाधान के लिए ज्योतिष विशेषज्ञ सूर्य ग्रह से जुड़े उपाय अपनाने की सलाह देते है।

सूर्य के गोचर के दौरान जातक को कैसा फल प्राप्त होगा, यह केवल और केवल इस बात पर निर्भर करता है कि उस गोचर के दौरान सूर्य एक कुंडली या राशि से किस भाव में संचरण कर रहा है। क्योंकि सभी 12 भावों में सूर्य के गोचर का परिणाम अलग-अलग होता है।

समय: सूर्य का गोचर काल : sun transit period ...
वैदिक ज्योतिष में आत्मा के कारक माने गए सूर्य देव 17 अगस्त 2019, शनिवार को दोपहर 12:47 बजे कर्क राशि से सिंह राशि में प्रवेश sun transit time करने जा रहे है। जो 17 सितंबर 2019, मंगलवार 12:43 बजे तक इसी राशि में स्थित रहेंगे।

सिंह राशि का स्वामित्व प्राप्त होने के चलते सूर्य के प्रभाव से सिंह राशि के जातकों को लाभ मिलने की संभावना है। इसके अलावा सूर्य के इस संचरण से बाकी सभी राशियां भी ख़ासा प्रभावित होंगी।

rashi parivartan effects on मेष - चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ

ये पड़ेगा समस्त 12 राशियों पर सूर्य के गोचर का प्रभाव व बचाव के उपाय : rashi parivartan effects of suryadev on your zodiac sign

1. मेष राशि फल / effects of suryadev rashi parivartan on aries -

इस दौरान आपकी राशि से सूर्यदेव पांचवें भाव में विराजमान रहेंगें।

लाभ ( Good Time) :

ये अवधि आपके लिए कार्यक्षेत्र में तरक्की ला सकती है। इस दौरान नौकरी की तलाश करने वाले लोगों को विशेष रूप से नयी नौकरी मिल सकती है। कार्यक्षेत्र में आपको अपने सहयोगियों का भरपूर सहयोग मिलेगा और आप अपनी मंज़िल को पाने में कामयाब रहेंगे। वहीं दूसरी तरफ यदि आप किसी व्यवसाय से जुड़े हैं तो इस दौरान आपके व्यापार में वृद्धि होगी और शुभ फल की प्राप्ति होगी। गोचर की इस अवधि के दौरान आपको सरकारी स्तर पर लाभ मिलने के भरपूर योग नजर आ रहे हैं। मेष राशि के जातकों के लिए सूर्य का ये गोचर फलदायी साबित होगा।

समस्या ( Bad Time ) :

सूर्य के नकारात्मक प्रभाव से इस दौरान आपके स्वभाव में कुछ परिवर्तन आ सकते हैं, आपमें अनावश्यक जिद्द या क्रोध आ सकता है। यदि आप प्रेम में हैं तो इस गोचर काल की अवधि में अपने पार्टनर के साथ मतभेद की स्थिति ना उत्पन्न होने दें। वैवाहिक जीवन में भी आपको कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

उपाय ( Solution ) : विशेष लाभ प्राप्ति के लिए उगते हुए सूर्य को अपनी नग्न आंखों से देखें और जल का अर्घ्य दें।

rashi parivartan effects on वृषभ - ई, उ, ए, ओ, वा, वी, वु, वे, वो

2. वृषभ राशि फल / effects of suryadev rashi parivartan on taurus -

इस दौरान सूर्य आपकी राशि से चौथे भाव में रहेंगें।

लाभ ( Good Time) :

इस दौरान मन को थोड़ी शांति मिलेगी। बात करें कार्यक्षेत्र की तो, सूर्य के गोचर की ये अवधि आपके कार्यक्षेत्र के लिए विशेष रूप से फलदायी सिद्ध होने वाली है। इस दौरान कार्यस्थल पर आपकी पदोन्नति हो सकती है और आपके काम के लिए बॉस से सराहना भी मिल सकती है। इसी प्रकार से वैवहिक जीवन में भी इस दौरान स्थितियां सामान्य रहने वाली है, आपके जीवनसाथी को भी कार्यक्षेत्र में तरक्की मिलेगी जिससे मन प्रफुल्लित रहेगा। वृषभ राशि के जातकों के लिए ये गोचर मध्यम फलदायी साबित होगा।

समस्या ( Bad Time ) :

इस गोचर का नकारात्मक प्रभाव आपके पारिवारिक जीवन पर पड़ सकता है। गोचर की इस अवधि के दौरान आपके परिवार का माहौल थोड़ा अशांत रह सकता है। इसके अलावा परिवार के सदस्यों के बीच किसी बात को लेकर मतभेद की स्थिति बन सकती है।

उपाय ( Solution ) : : सूर्य के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए रविवार को नारियल एवं लाल फल की पूजा करें।

rashi parivartan effects on मिथुन - क, की, कु, घ, ड, छ, के, को, ह

3. मिथुन राशि फल / Effects of suryadev rashi parivartan on gemini -

सूर्य इस दौरान आपकी राशि से तीसरे भाव में स्थित होंगें।

लाभ ( Good Time) :

इस गोचर के फलस्वरूप आपके काम करने की क्षमता में वृद्धि होगी और आप हर परिस्थिति का मुक़ाबला करने के लिए खुद को पूरी तरह से सक्षम पाएंगे। इस दौरान जहां एक तरफ आपके साहस और पराक्रम में वृद्धि होगी वहीं दूसरी तरफ आप दृढ़ निश्चयी भी बनेंगे। इस गोचर काल के दौरान आप कहीं आस पास छोटी दूरी की यात्रा पर भी जा सकते हैं, आपके लिए ये यात्रा कई मायनों में फलदायी साबित होगी। मिथुन राशि के जातकों के लिए गोचर की ये अवधि फलदायी सिद्ध होगी।

समस्या ( Bad Time ) :

गोचर की इस अवधि के दौरान विशेष सफलता प्राप्त करने के लिए आपको कठिन मेहनत करने की आवश्यकता होगी। लेकिन पारिवारिक जीवन में इस गोचर की अवधि में पैतृक संपत्ति को लेकर भाई बहनों के साथ मतभेद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है, जिससे परिवार में अशांति का वातावरण रहेगा। परिवार में सुख शांति बनाए रखने के लिए मतभेद की स्थिति से बचकर रहें।

उपाय ( Solution ) : विशेष लाभ के लिए रविवार के दिन लाल कपड़े दान करें।

rashi parivartan effects on कर्क - हि, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो

4. कर्क राशि फल / effects of suryadev rashi parivartan on cancer -

सूर्य इस समय आपकी राशि से दूसरे भाव में रहेंगे। सूर्य के इस गोचर के दौरान आपके स्वभाव में विशेष रूप से परिवर्तन देखने को मिल सकता है।

लाभ ( Good Time) :

आर्थिक दृष्टिकोण से सूर्य का ये गोचर आपके लिए फलदायी साबित हो सकता है। इस दौरान आपको किसी अनजान स्रोत से आर्थिक लाभ मिल सकता है। इसके साथ ही इस गोचर काल में आप पैसों की बचत करने में भी सफल रहेंगे जिससे आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। यदि आप सरकारी पेशे से जुड़े हैं तो इस समय आपको खासतौर से अपने उच्च अधिकारियों का सहयोग मिलेगा। इस दौरान संभवतः आपका तबादला आपके पसंदीदा जगह पर भी हो सकता है। कर्क राशि के जातकों के लिए गोचर की ये अवधि सामान्य फलदायी साबित होने वाली है।

समस्या ( Bad Time ) :

गोचर की इस अवधि में आपके क्रोध में इज़ाफा होगा और आपमें अहंकार भी देखने को मिल सकता है। लिहाजा इस गोचरकाल में आपको खासतौर से अपनी भाषा शैली पर संयम बरतने की आवश्यकता होगी। इस दौरान बातचीत के दौरान किसी के साथ भी कठोर शब्दों का प्रयोग ना करें। जीवनसाथी के स्वास्थ्य में गिरावट देखी जा सकती है। विवाहित जोड़े को इस समय विशेष रूप से अपने साथी की सेहत का ख्याल रखना होगा। पारिवारिक स्तर पर देखें तो सूर्य के इस गोचर के दौरान, परिवार के किसी सदस्य के साथ आपका वैचारिक मतभेद हो सकता है। गोचर काल की ये अवधि पारिवारिक रूप से आपके लिए तनावपूर्ण रहेगी।

उपाय ( Solution ) : विशेष लाभ प्राप्ति के लिए भगवान शिव की आराधना करें और उन्हें खस का इत्र चढ़ाएं।

suryadev rashi parivartan effects on कर्क - हि, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो

5. सिंह राशि फल / effects of suryadev rashi parivartan on leo -

सूर्य इस गोचर काल में आपकी ही राशि में हो रहा है, लिहाजा ये आपकी राशि से प्रथम भाव में या लग्न भाव में स्थित होंगें।

लाभ ( Good Time) :

सूर्य का ये गोचर आपके लिए विशेष रूप से फलदायी साबित होगा। सबसे पहले बात करें सामाजिक जीवन की तो, सामाजिक स्तर पर आपके मान सम्मान में वृद्धि होगी और आप लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र होंगें। इस गोचरकाल की अवधि में आपका स्वास्थ्य भी आपका भरपूर साथ देगा और आप खुद को बेहद ऊर्जावान महसूस करेंगे। इस दौरान आप अपने व्यक्तित्व में एक ख़ास निखार का अनुभव करेंगे। इस दौरान आपके अंदर एक विशेष प्रकार का जोश तो जरूर नजर आएगा, लेकिन आपको अपनी भाषा में संयम बनाए रखने की आवश्यकता होगी।

समस्या ( problem ) :

इस दौरान आपके मुख से निकली कोई कड़वी बात आपके करीबी को चोट पहुंचा सकती है। इसलिए वाणी पर संयम बरतना सिंह राशि के जातकों के लिए इस दौरान विशेष रूप से आवश्यक है।


उपाय ( Solution ) : विशेष लाभ प्राप्ति के लिए तांबे के बर्तन से सूर्य देव को जल का अर्घ्य दें।

surya rashi parivartan effects on कन्या - टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो

6. कन्या राशि फल / effects of suryadev rashi parivartan on virgo -

इस दौरान आपकी राशि से बारहवें भाव में सूर्य स्थित रहेंगे।

लाभ ( Good Time) :

सूर्य के इस गोचर के दौरान आपके विदेश जाने की इच्छा पूरी हो सकती है। कार्यक्षेत्र में इस दौरान आप अपनी नौकरी में परिवर्तन कर सकते हैं। कोई भी फैसला लेने से पहले एक बार विचार ज़रूर कर लें। इसके अलावा सूर्य के गोचर के समय आप किसी हिल स्टेशन पर घूमने जाने की योजना बना सकते हैं। इस गोचर काल के दौरान कन्या राशि के जातकों को शत्रु पक्ष पर विजय प्राप्त होगी। इसके साथ ही यदि आपका कोई कोर्ट कचहरी का मामला चल रहा है तो फैसला यक़ीनन आपके पक्ष में आने की उम्मीद है। कन्या राशि के जातकों के लिए ये गोचर मध्यम फलदायी साबित होगा।

समस्या ( Bad Time ) :

आर्थिक रूप से देखें तो इस गोचर के दौरान आपके ख़र्चों में वृद्धि हो सकती है, लिहाजा इस दौरान आपको विशेष रूप से उन चीजों पर ही खर्च करना चाहिए जिसकी आपकी जरुरत हो। पैसों का बचत ना करने से आप आने वाले दिनों में आर्थिक तंगी के शिकार हो सकते हैं। निजी तौर पर इस अवधि में आपको अपने गुस्से पर नियंत्रण रखना चाहिए और वाद विवाद की स्थिति से दूर रहना चाहिए।

उपाय ( Solution ) : विशेष लाभ प्राप्ति के लिए ‘'ॐ आदित्याय विदमहे भास्कराय धीमहि तन्नो सूर्यः प्रचोदयात्!!’’ मंत्र का जाप करें।

surya dev rashi parivartan effects on तुला - रा,री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते

7. तुला राशि फल / Effects of suryadev rashi parivartan on libra -

सिंह राशि में गोचर के दौरान सूर्य आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में स्थित होंगें।

लाभ ( Good Time) :

गोचर की ये अवधि आपके लिए विशेष रूप से लाभकारी साबित हो सकती है। इस दौरान आपकी सरकारी क्षेत्र में कार्यरत लोगों से ख़ासा लाभ मिलने की संभावना बन रही है। उनके साथ आपके अच्छे संबंध स्थापित हो सकते हैं, लिहाजा इस समय लोगों के साथ घुलने-मिलने में भी आपको अपना समय देना चाहिये। इस गोचर काल के दौरान समाज में आपके मान सम्मान में भी वृद्धि होगी और आप ज्यादा से ज्यादा लोगों के संपर्क में आएंगे। इस दौरान कार्यक्षेत्र में आपको अपने उच्च अधिकारियों का भरपूर सहयोग प्राप्त होगा और आपके काम की सराहना होगी।

समस्या ( Bad Time ) :

प्रेम जीवन की बात करें तो आपके लिए ये अवधि थोड़ी चिंताजनक बीत सकती है। गोचर की इस अवधि में आपके पार्टनर के साथ विवाद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। इस दौरान आपको विशेष सलाह दी जाती है कि अपने पार्टनर के साथ किसी भी बात को लेकर मतभेद की स्थिति ना उत्पन्न होने दें। बच्चों की सेहत को लेकर परेशान रह सकते हैं।

उपाय ( Solution ) : सूर्य के हानिकारक प्रभाव से बचने के लिए आदित्यहृदय स्तोत्र का जप करें।

surya dev rashi parivartan effects on वृश्चिक - तो, ना, नी, नू, या, यी, यू

8. वृश्चिक राशि फल / Effects of suryadev rashi parivartan on scorpio -

सूर्य इस गोचर के दौरान आपकी राशि से दसवें भाव में विराजमान होगा।

लाभ ( Good Time) :

इस दौरान आपके लिए विशेष रूप से कार्यक्षेत्र में तरक्की मिलने की अच्छी संभावना नजर आ रही है। इसके साथ ही इस अवधि में आपको अपने काम में ख़ासा आनंद की अनुभूति होगी और कार्यक्षेत्र में आपके काम की सराहना होगी। वृश्चिक राशि के जातकों के लिए सूर्य के गोचर की ये अवधि निम्न फलदायी साबित होने वाली है।

समस्या ( Bad Time ) :

इस दौरान काम की अधिकता होने की वजह से आपको निजी जीवन में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। बहरहाल परिवार के सदस्य आपको इस बात के लिए ताने दे सकते हैं कि आप उनके साथ पर्याप्त समय नहीं गुजार पाते।

उपाय ( Solution ) : विशेष लाभ के लिए इस मंत्र का जाप करें:- ॐ ग्रिणिः सूर्याय नमः!!

surya dev rashi parivartan effects on वृश्चिक - तो, ना, नी, नू, या, यी, यू

9. धनु राशि फल / effects of suryadev rashi parivartan on sagittarius -

सूर्य इस गोचर अवधि में आपकी राशि से नवम भाव में स्थित होंगें।

लाभ ( Good Time) :

सूर्य का ये गोचर धनु राशि के जातकों के लिए सामाजिक रूप से काफी लाभदायक साबित होने वाला है। लिहाजा गोचर की इस अवधि में समाज में आपकी छवि काफी अच्छी बनेगी और आपके मान सम्मान में वृद्धि होगी। इसके साथ ही इस दौरान समाज के कुछ बेहद प्रभावशाली लोगों के संपर्क में भी आने का अवसर आपको मिल सकता है। गोचर की इस अवधि के दौरान संभावना है कि आप किसी लंबी दूरी की यात्रा पर जा सकते हैं। आपके भविष्य के लिए ये यात्रा लाभकारी साबित हो सकती है। कार्यक्षेत्र की बात करें तो यहाँ भाग्य का आपको पूरा साथ मिलेगा। धनु राशि के जातकों के लिए सूर्य के गोचर की ये अवधि मध्यम फलदायी साबित होगी।

समस्या ( Bad Time ) :

पारिवारिक स्तर पर आपके लिए ये गोचर चुनौतीपूर्ण साबित हो सकती है। इस दौरान पिता की सेहत बिगड़ने की वजह से मन अशांत रहेगा और परिवार में भाई बहनों के साथ किसी बात को लेकर विवाद की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती है।

उपाय ( Solution ) : विशेष लाभ प्राप्ति के लिए रविवार के दिन उत्तम कोटि का रूबी रत्न पहनें, लेकिन ये रत्न पहनने से पहले किसी जानकार से सलाह अवश्य ले लें।

surya rashi parivartan effects on मकर - भो, जा, जी, जू, खा, खू, गा, गी

10. मकर राशि फल / effects of suryadev rashi parivartan on capricorn -

सूर्य इस दौरान आपकी राशि से आठवें भाव में रहेंगें।

लाभ ( Good Time) :

आर्थिक रूप से देखें तो सूर्य का ये गोचर आपके लिए जहां एक तरफ धन लाभ लेकर आएगा वहीं दूसरी तरफ आपको धन हानि भी हो सकती है। आपको विशेष रूप से सलाह दी जाती है कि इस समय पैसों को लेकर सावधानी बरतें और अपने ख़र्चों पर काबू रखें।

समस्या ( Bad Time ) :

गोचर की इस अवधि के दौरान आपके स्वास्थ्य में विशेष रूप से कुछ गिरावट आ सकती है। लिहाजा इस दौरान आपको अपनी सेहत का विशेष ख़्याल रखने की आवश्यकता होगी। इस गोचरकाल के दौरान आप किसी दुर्घटना के शिकार हो सकते हैं, इसलिए इस समय आपको ख़ास सावधानी बरतने की हिदायत दी जाती है। यदि आप शादीशुदा हैं तो गोचर की अवधि में आपके जीवनसाथी के सामने आपका कोई ऐसा राज सामने आ सकता है जिसे आप लंबे समय से छुपाने का प्रयास कर रहे थे। इस दौरान विशेष रूप से ऐसे कामों में संलग्न ना हो जिससे आपकी छवि खराब होती हो।

उपाय ( Solution ) : सूर्य गोचर के हानिकारक प्रभाव से बचने के लिए विशेष रूप से रविवार के दिन गेहूं का दान करें।

surya rashi parivartan effects on कुम्भ - गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा

11. कुंभ राशि फल / effects of suryadev rashi parivartan on Aquarius -

सूर्य इस अवधि के दौरान आपकी राशि से सातवें भाव में विराजमान होगा।

लाभ ( Good Time) :

कार्यक्षेत्र की बात करें तो आपके लिए सूर्य के गोचर का ये समय विशेष रूप से लाभदायक साबित होगा। इस दौरान आपकी पदोन्नति के साथ ही आय में भी बढ़ोत्तरी हो सकती है। यदि आप काफी वक़्त से नौकरी बदलने की सोच रहें हैं तो आपके लिए सूर्य के गोचर की ये अवधि विशेष रूप से सहायक साबित हो सकती है। वहीं दूसरी तरफ यदि आप किसी व्यापार से जुड़े हैं तो इस दौरान आपको अपने बिज़नेस पार्टनर के साथ से विशेष लाभ प्राप्त हो सकता है। कुंभ राशि के जातकों के लिए भी ये अवधि ख़ासा लाभदायक साबित हो सकती है।

समस्या ( Bad Time ) :

सूर्य की ये स्थिति आपके वैवाहिक जीवन के लिए मुसीबत पैदा कर सकती है। इस दौरान जीवनसाथी के साथ किसी बात को लेकर आपका मतभेद हो सकता है। जीवनसाथी के साथ उत्पन्न होने वाली विवाद की स्थिति से बचें और किसी भी मामले को प्यार से सुलझाने की कोशिश करें। स्वास्थ्य के लिहाज से देखें तो इस दौरान आप अपनी सेहत को लेकर परेशान हो सकते हैं। बेहतर स्वास्थ्य लाभ के लिए गोचर की इस अवधि के दौरान आपको अपना खान पान अच्छा रखने के साथ ही एक हेल्दी रूटीन भी अपनाना चाहिए।

उपाय ( Solution ) : सूर्य के हानिकारक प्रभाव से बचने के लिए ब्राह्मणों को गुड़ दान में दें।

suryadev rashi parivartan effects on मीन - दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, चि

12. मीन राशि फल / effects of suryadev rashi parivartan on pisces -

सूर्यदेव आपकी राशि से छठे भाव में इस दौरान रहेंगें।

लाभ ( Good Time) :

इस गोचर काल में आप अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने में सफल रहेंगे। यदि आपका कोर्ट कचहरी का कोई मामला चल रहा है तो संभव है कि इस दौरान फैसला आपके पक्ष में आये। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को इस दौरान विशेष रूप से अच्छे परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। मीन राशि के जातकों के लिए गोचर की ये अवधि समान्य फलदायी साबित हो सकती है।

समस्या ( Bad Time ) :

सूर्य के इस गोचर का नकारात्मक प्रभाव आपके वैवाहिक जीवन पर देखा जा सकता है। इस दौरान आप अपने जीवनसाथी के व्यवहार में थोड़ी आक्रामकता देख सकते हैं। बात करें आर्थिक जीवन की तो, आपको इस दौरान विशेष रूप से अपने ख़र्चों पर काबू रखने की आवश्यकता है। आपको धन लाभ तो ज़रूर होगा बावजूद इसके अगर आपने अभी से सूझ-बूझ से काम ना लिया तो आप आर्थिक तंगी के शिकार भी हो सकते हैं।

सूर्य के गोचर की ये अवधि आपके लिए शारीरिक पीड़ा का कारण भी बन सकती है। इस गोचर काल में आप बुखार या सिरदर्द की समस्या से ग्रस्त हो सकते हैं।

उपाय ( Solution ) : विशेष लाभ प्राप्ति के लिए रविवार के दिन बैल को गेहूं व गुड़ खिलाएं।