स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पांच दिन से हो रही भारी बारिश, सभी रास्ते हुए बंद, स्कूलों में दी गई छुट्टी

Arvind jain

Publish: Sep 14, 2019 12:40 PM | Updated: Sep 14, 2019 12:40 PM

Ashoknagar

बारिश का कोहराम: नेशनल हाईवे का पुल डूबा, सागर, विदिशा, ललितपुर सहित जिले के सभी रास्ते बंद, तेज उफान पर सभी नदियां।

- गांवों का तहसील मुख्यालयों से कटा संपर्क, भारी बारिश को देखते हुए कलेक्टर ने 14 सितंबर को स्कूलों में किया अवकाश घोषित।
- एक सैंकड़ा घरों में भरा पानी, दूसरों के घरों पर शरण लेने मजबूर ग्रामीण, बरखेड़ाछज्जू बांध में पानी बढऩे से घरों में घुसा पानी।

अशोकनगर। पांच दिन से लगातार जारी बारिश अब जिले में कोहराम बनकर बरस रही है, 24 घंटे में जिले में दो इंच बारिश हुई। इससे सभी नदियां उफान पर आ गईं और किनारे से पांच किमी दूर क्षेत्र तक बेतवा का पानी बहने लगा, इससे पांच हजार हेक्टेयर की फसल पानी में डूब गई और 10 गांव पानी में घिर गए।


नेशनल हाईवे का पुल दिनभर डूबा रहा तो यूपी-एमपी पुल के 20 फिट ऊपर पानी बहता रहा। इससे सागर, बीना, ललितपुर, विदिशा, भोपाल सहित जिले के सभी रास्ते बंद हो गए।


दूसरे लोगों के घरों पर शरण लेना पड़ी
उफान पर आई बेतवा और कैंथन नदी ने मुंगावली ब्लॉक के सांवलहेड़ा, भेड़का, किरोला, सेमरखेड़ी, बिल्हेरू, बाढ़ौली, निटर्र, ढि़चरी सहित कई गांवों को घेर लिया। वहीं सांवलहेड़ा में निचले क्षेत्र में स्थित 20 घरों में पानी भर गया, गांव के पूर्व सरंपच बृजभानसिंह ने बताया कि ग्रामीणों को दूसरे लोगों के घरों पर शरण लेना पड़ी।


सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया
कंजिया पुल से चार फिट ऊपर बेतवा का पानी बहने से नदी पांच किमी क्षेत्र में फैल गई और भोपाल गांव से ही रास्ता बंद हो गया। वहीं कैंथन और मोला नदी के उफान पर आने से बहादुरपुर में भी कई घरों में पानी भर गया, लोगों को घर खाली कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।

वहीं अन्य नदियों के उफान से कई अन्य गांवों में भी घरों में पानी भरने और फसलें डूबने की खबर है। इसके अलावा बहादुरपुर में कैंथन नदी का पुल डूबने से एक दर्जन गांव का रास्ता बंद हो गया।

नेशनल हाईवे के पुल से चार फिट ऊपर पानी-
कैंथन व मोला नदी के एक साथ उफान पर आने से बहादुरपुर में नेशनल हाईवे 346ए के पुल से सुबह साढ़े सात बजे चार फिट ऊपर पानी बहने, इससे नेशनल हाईवे दिनभर बंद रहा।

बेतवा नदी के उफान से कंजिया पुल के चार फिट ऊपर तक पानी बहता रहा और सागर-बीना मार्ग बंद रहा। वहीं राजघाट बांध के 16 गेटों से पानी छोडऩे से यूपी-एमपी पुल के 20 फिट ऊपर से पानी बहता रहा। इसके अलावा मल्हारगढ़, पिपरई, तूमैन, सहित अन्य रास्ते भी दिनभर बंद रहे।


बांध के गेट नहीं खुल पाए तो पानी में डूबे घर-
जिले के बरखेड़ाछज्जू बांध के गेटों में जंग आ जाने से गेट खुल नहीं पाए। इससे बरखेड़ाछज्जू गांव में घरों में पानी भर गया। ग्रामीणों के मुताबिक करीब 20 घरों में घुटनों तक पानी भरा हुआ है और घरों को पानी ने घेर लिया है, लेकिन सूचना देने के बाद भी अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचे। खेत भी पानी से डूब गए। इससे ग्रामीणों का गृहस्थी का सामान भी खराब हो गया और अब उन्हें पानी के बीच ही जागकर रात गुजारना पड़ेगी।

 

कई मकान गिरे, पांच हजार हेक्टेयर की फसल डूबी-
बारिश से अखाईटप्पा में रघुवीर कुशवाह, दियाधरी में रामदयाल अहिरवार, सेवक चंदेल, संग्राम कुशवाह, लच्छूराम अहिरवार, नईसराय मनिहार मोहल्ला में लयाखत खान का कच्चा घर गिर गया, छोटेलाल टेलर का मकान भी धरासाई हो गया। इससे सामान खराब हो गया और वह बरसाती लगाकर रहने मजबूर हैं। वहीं अन्य गांवों में भी पानी भरने से कई कच्चे मकान धरासाई हो गए। इसके अलावा बेतवा, कैंथन और ओर नदी के उफान से करीब पांच हजार हेक्टेयर की फसल पूरी तरह डूब गई।

 

बारिश से जिले में यह भी हालात-
- राजघाट के 16 गेट खोलकर 377422 क्यूसेक (1.06 करोड़ लीटर प्रति सेकेंड) पानी बाहर छोड़ा जा रहा है।
- किसानों का कहना है कि पूर्व में नदियों और बारिश ने नुकसान पहुंचाया, अब फिर से डूबने से फसलें बर्बाद हो रही हैं।
- ज्यादा बारिश से 1.10 लाख हेक्टेयर का उड़द पूरी तरह से खत्म हो चुका है और 1.65 लाख हेक्टेयर में सोयाबीन है, जिसमें 30 फीसदी नुकसान है।
- नेशनल हाईवे पर पुल पर पानी होने के बाद भी लोग पुल पार करते दिखे, निकलते समय जीप पानी में डूबकर बंद हो गई, ग्रामीणों ने धक्का देकर निकाली।
- बेतवा नदी के उफान से रणछोरधाम में पानी भर गया, 21 फिट ऊंचा मंदिर भी बेतवा में डूब गया।
- ककरुआ राय निवासी शैतानसिंह रात में गांव जाते समय नाले में बह गया, जो पेड़ को पकड़कर बच पाया।
- भारी बारिश को देखते हुए कलेक्टर ने जिले में पहली से आठवी कक्षा तक स्कूलों में आज की छुट्टी घोषित की है।


जिले में हुई बारिश पर एक नजर-
ब्लॉक बारिश अब तक औसत से तुलना
अशोकनगर 63 1179 138.7 प्रतिशत
चंदेरी 58 1065 106.5 प्रतिशत
ईसागढ़ 30 979 111.5 प्रतिशत
मुंगावली 31 1126 140.7 प्रतिशत
औसत जिला 45.5 1087 123.2 प्रतिशत
(बारिश मिमी में, आंकड़े भू-अभिलेख अनुसार।)


पिछले वर्ष पूरे सीजन में हुई बारिश-
ब्लॉक औसत कुल बारिश
अशोकनगर 850 1032
चंदेरी 1000 1011
ईसागढ़ 878 1336
मुंगावली 800 863
औसत जिला 882 1008
(आंकड़े भू-अभिलेख अनुसार।)