स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Punjab: नवजोत सिद्धू ने खाली किया सरकारी आवास

Devkumar Singodiya

Publish: Jul 20, 2019 20:04 PM | Updated: Jul 20, 2019 20:04 PM

Amritsar

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा निवर्तमान कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ( Navjot Singh Sidhu ) का इस्तीफा स्वीकार किए जाने के बाद सिद्धू ने शनिवार की शाम चंडीगढ़ स्थित सरकारी आवास (Goverment Quarter ) भी खाली कर दिया। पंजाब की राजनीति में सिद्धू को लेकर आज दिनभर घटनाक्रम चलता रहा। सुबह करीब साढे नौ बजे मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सिद्धू का इस्तीफा ( Resination ) स्वीकार करके राज्यपाल वी.पी. सिंह बदनौर को भेजा। दोपहर करीब एक बजे राज्यपाल ने सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार कर लिया और सरकार को इस बाबत सूचित कर दिया गया।

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा निवर्तमान कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार किए जाने के बाद सिद्धू ने शनिवार की शाम चंडीगढ़ स्थित सरकारी आवास भी खाली कर दिया। पंजाब की राजनीति में सिद्धू को लेकर आज दिनभर घटनाक्रम चलता रहा। सुबह करीब साढे नौ बजे मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार करके राज्यपाल वी.पी. सिंह बदनौर को भेजा। दोपहर करीब एक बजे राज्यपाल ने सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार कर लिया और सरकार को इस बाबत सूचित कर दिया गया।


करीब ढाई बजे बिजली मंत्रालय को प्रभार मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अपने पास ले लिया। जिसे पर्सनल विभाग द्वारा अधिसूचित कर दिया गया। शाम होते-होते नवजोत सिंह सिद्धू को बतौर मंत्री चंडीगढ़ के सैक्टर-दो स्थित कोठी नंबर 42 पर समर्थकों का आवागमन बढ़ गया। इस बीच हरियाणा में पंजीकृत दो गाडिय़ां सिद्धू के सरकारी आवास पर पहुंची। जो करीब दो घंटे तक सामान लोड कर अमृतसर के लिए रवाना हो गई।
इसी दौरान सिद्धू के सरकारी आवास पर मौजूद हास्पीटैलिटी विभाग के कर्मचारी ने बताया कि दो दिन पहले ही एक व्यक्ति अमृतसर से यहां आया था जो सिद्धू के पालतु कुत्ते को लेकर चला गया था। आज यहां रखा शेष सामान भी उठा लिया गया है।

आवास पर रहे अब चन्द कर्मचारी

महज एक दिन पहले तक कार्यकर्ताओं और समर्थकों की चहल पहल से आबाद रहने वाले नवजोत सिंह सिद्धू के सरकारी आवास पर शाम को सिर्फ सरकारी कर्मचारी बचे थे। इनमें सुरक्षा कर्मचारी भी शामिल थे। आवास के लॉन और गलियारों में राजनीति के अलावा अभाव अभियोग की बातें भी बंद हो गई। शाम से देर रात तक चकाचौंध रहने वाले सिद्धू के आवास में रोशनी तो नजर आई, लेकिन लोगों की चहल पहल थम चुकी थी और वहां सन्नाटा छाया हुआ था। आवास पर मौजूद कर्मचारियों ने बताया कि दोपहर से ही सैकडों कार्यकर्ताओं और समर्थकों के टेलीफोन आ रहे हैं, सभी लोग सिद्धू की उपस्थित के बारे में जानकारी लेना चाह रहे थे। उन्होंने बताया कि सुबह कुछ सरकारी अधिकारी आए थे, लेकिन दोपहर बाद से कोई नहीं आया।

सिद्धू का विवादों से रहा है नाता

https://www.patrika.com/chandigarh-punjab-news/navjot-sidhu-controversy-governor-accepted-sidhu-s-resignation-4864405/