स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

करतारपुर कॉरिडोर निमार्ण कार्य पकड़ रहा गति, ढ़हाया गया बाधा बनकर खड़ा बंकर

Prateek Saini

Publish: May 27, 2019 20:33 PM | Updated: May 27, 2019 20:33 PM

Amritsar

पाकिस्तान की तरफ से करतारपुर कॉरिडोर का निर्माण कर रही फ्रेडरल इन्वेस्टीगेशन एजेंसीज (एफआईए) ने वहां की सरकार से निर्माण कार्यों के लिए 28 करोड़ की राशि मांगी है...

(बटाला): करतारपुर साहिब कॉरिडोर निर्माण में जुटी एजेंसियों ने श्री डेरा बाबा नानक की दूसरी पंक्ति की डिफेंस लाइन धुस्सी बांध पर बने भारतीय बंकर को ढहा दिया है। यह बंकर श्री डेरा बाबा नानक व पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब को जोड़ने के लिए भारत द्वारा बनाए जा रहे पुल के निर्माण में बाधा बन रहा था। बंकर को ढहाने से पहले निर्माण एजेंसियों ने सैन्य अधिकारियों के साथ बातचीत की। सैन्य अधिकारियों को बताया गया कि भारत की ओर से रावी नदी के ऊपर बनने वाले 100 मीटर के पुल में यह बंकर बाधा है। अधिकारियों ने मौके का निरीक्षण कर बंकर को गिराने की अनुमति दे दी।


पाकिस्तान की तरफ से करतारपुर कॉरिडोर का निर्माण कर रही फ्रेडरल इन्वेस्टीगेशन एजेंसीज (एफआईए) ने वहां की सरकार से निर्माण कार्यों के लिए 28 करोड़ की राशि मांगी है। पाकिस्तान करतारपुर साहिब कॉरिडोर का चार किलोमीटर का रास्ता तैयार कर रहा है। आर्थिक संकट में जूझ रही पाकिस्तान सरकार की ओर से फंड जारी करने में की जा रही देरी से निर्माण कार्यों की गति धीमी पड़ी है। सूत्रों ने बताया की भारत-पाकिस्तान के तकनीकी विशेषज्ञों की बैठक 27 मई को हुई। बैठक में श्री डेरा बाबा नानक में चल रहे निर्माण कार्यों की समीक्षा व रावी नदी पर बनाए जा रहे पुल व दोनों देशों की ओर से पुल पर निर्माणाधीन स्वागती गेटों के डिजाइन पर चर्चा हुई। अधिकारियों ने मीडिया से दूरी बनाए रखी और मीडिया को उस जगह के नजदीक भी नहीं फटकने दिया गया।