स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इलाज के दौरान युवती की मौत, सिरफिरे आशिक ने जलाया था जिन्दा

Neeraj Patel

Publish: Nov 05, 2019 22:04 PM | Updated: Nov 05, 2019 22:04 PM

Amethi

कोतवाली गौरीगंज के टोपरी मजरे भनियापुर गांव की एक युवती की शादी तय होने से नाराज सिरफिरे आशिक ने पांच दिन पहले उसे जिंदा फूंक दिया था। अब उसकी इलाज के दौरान युवती की मौत हो गई।

अमेठी. कोतवाली गौरीगंज के टोपरी मजरे भनियापुर गांव की एक युवती की शादी तय होने से नाराज सिरफिरे आशिक ने पांच दिन पहले उसे जिंदा फूंक दिया था। अब उसकी इलाज के दौरान युवती की मौत हो गई। युवती के पिता की तहरीर पर पुलिस केस दर्ज कर तलाश में जुटी है।

गांव निवासी छविलाल की 18 वर्षीय पुत्री सरिता पिछले 31अक्तूबर को घर के अंदर सो रही थी। रात में छोटा मटेरा मजरे भनियापुर निवासी रिंकू दीवार फांद कर घर में घुस गया और सरिता पर शादी नहीं करने का दबाव बनाया। सरिता के मना करने पर आक्रोशित रिंकू ने उस पर केरोसिन डालकर आग लगा दी। सरिता की चीख-पुकार सुनकर परिवारीजन दौड़े तो रिंकू मौके से भाग निकला। परिवारीजनों ने सरिता को जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां उसकी हालात नाजुक देख चिकित्सकों ने ट्रॉमा सेंटर लखनऊ रेफर कर दिया। ट्रॉमा सेंटर में इलाज के दौरान एक नवंबर की रात सरिता की मौत हो गई। पिता छविलाल की तहरीर पर पुलिस ने रिंकू के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया है।

मृतका का विवाह प्रतापगढ़ जिले में तय हुआ था। दोनों परिवारों की सहमति से 28 नवंबर को वरीक्षा की तिथि नियत हुई थी। वरीक्षा की तैयारी चल रही थी कि यह घटना हो गई। सरिता के परिवार की माली हालत अच्छी नहीं है। पहले चंडीगढ़ में रहकर मेहनत मजदूरी करने वाला छविलाल एक वर्ष से घर पर रहता है। वह खेती-किसानी व मेहनत मजदूरी करके घर का खर्च चलाता है। अपर पुलिस अधीक्षक दयाराम सरोज ने बताया कि घटना के संबंध में उसके पिता की ओर से तहरीर मिलते ही आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। आरोपी की गिरफ्तारी की कोशिश चल रही है। जल्द ही गिरफ्तार कर उसका चालान कोर्ट भेजा जाएगा।

[MORE_ADVERTISE1]